Home इधर उधर की स्लैंग भाषा इस्तेमाल करने से भूल रहे हम भाषा

स्लैंग भाषा इस्तेमाल करने से भूल रहे हम भाषा

SHARE

Slang in Hindi – स्लैंग भाषा असल में इन्टरनेट की दुनिया और सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर इस्तेमाल होने वाले प्रचलित शब्दों के समूह को कहा जाता है जिस से आप कुछ short words का इस्तेमाल करते है और आपको बड़े बड़े words type नहीं करने होते है जिस से बातचीत और आसान और तेजी से की जा सकती है जैसे “ओह माय गॉड” की जगह ‘ओ एम जी’ का इस्तेमाल किया जाता है और अन्य भी बहुत सारे शब्द है जो हम जानते है और उन्हें short form में इस्तेमाल करते है इन्हें ही स्लैंग शब्द कहा जाता है |

स्लैंग भाषा है बातचीत करने का आसान तरीका – वैसे कुछ लोग ये मानते है कि स्लैंग शब्द के अधिक इस्तेमाल से बच्चे व्याकरण सम्बन्धी गलतियों को पहचानने में कमी महसूस करते है और अक्सर स्कूल में दिए गये होमवर्क में भी इसका इस्तेमाल करते है जो चिंताजनक है जबकि कुछ लोगो का कहना है कि स्लैंग शब्द से  केवल बातचीत करने और इन्टरनेट पर कम्युनिकेशन करने में लम्बे वर्ड्स टाइप करने से आजादी देता है जिस से हमारी बातचीत थोड़ी अधिक सुगम हो जाती है इसलिए यह कहना सही नहीं है कि स्लैंग के इस्तेमाल से बच्चो के व्याकरण और उनके मानसिक विकास पर कोई असर पड़ता है स्लैंग भाषा की वजह से ही बच्चो में मेसेज करने की प्रवृति बढ़ी है |

बच्चो को स्लैंग भाषा के दुष्प्रभाव से कैसे बचाए – वैसे तो यह ठीक है अगर आपका बच्चा इसका प्रयोग केवल बातचीत तक ही सीमित रखता है लेकिन अगर उसके स्कूल के रिकॉर्ड में इसका असर दिखने लगे तो अपने बच्चो के लिए आप थोड़े जागरूक बनिये और बच्चो को वर्चुअल वर्ल्ड छोड़ने और सामाजिक बनने के लिए प्रेरित कीजिये और उसे लोगो से मेलजोल बढ़ाने के लिए प्रेरित कीजिये |

स्लैंग शब्द स्लैंग भाषा
स्लैंग भाषा – Slang in Hindi

स्लैंग भाषा के दुष्प्रभाव – हालाँकि जो लोग ये मानते है कि स्लैंग बच्चो के मानसिक विकास और उनके भाषा के व्याकरण के ज्ञान के लिए खतरनाक है वो कुछ हद तक सही भी है स्कूल के होमवर्क में स्लैंग वर्ड्स इस्तेमाल करने वाले अधिकतर बच्चे वो है जो इन्टरनेट का अधिक प्रयोग करते है और असल में उनकी इसमें कोई अधिक गलती भी नहीं है और न ही इस आदत को एक बार में सुधार किया जा सकता है क्योंकि बच्चे छोटे होते है और सीखने के लिए लालायित भी इसलिए वो जल्दी सीखते है इसलिए उनकी आदत में से स्लैंग भाषा को बाहर करना एक चुनौती जैसा काम होता है और चूँकि मोबाइल के बिना आजकल जिन्दगी की कल्पना भी नहीं की जा सकती इसलिए बच्चो को उनके इस्तेमाल से रोका नहीं जा या मना नहीं किया जा सकता लेकिन हाँ उनको इस बारे में जागरूक किया जा सकता है कि वो सोशल वर्ल्ड से थोड़ी दूरी बनाकर रखें और उसका सीमित उपयोग करें | आप बच्चो को अच्छी वाली किताबें पढने के लिए प्रेरित कर सकते है और सामाजिक कामों में हिस्सा लेने और कुछ अन्य तरीको से भी आप उन्हें सामाजिक बना सकते है |

स्लैंग भाषा को लेकर पेरेंट्स की दुविधा – बच्चे के सेलफोन को कभी अगर पेरेंट्स चेक करते है तो उनका दिमाग घूम जाता है क्योंकि उन्हें समझ ही नहीं आता कि उनके बच्चे किस भाषा में बात कर रहे है लेकिन इसके लिए परेशान होने की जरुरत नहीं है अगर बहुत अधिक शोर्ट वर्ड्स आपको देखने को मिले और आप उनके मतलब जानना चाहते है तो आपके लिए इन्टरनेट पर ढेर सारी इस से जुडी जानकारी वाली वेबसाइट उपलब्ध है जिनमे से आपको कुछ की लिस्ट हम यंहा दे रहे है और आप उनसे पूछे बिना ही इन वर्ड्स के मतलब जान सकते है या स्लैंग भाषा को सीख सकते है |

  • नेटलिंगो डॉट कॉम पर जाकर आप तमाम तरह के आजकल के इन्टरनेट पर इस्तेमाल होने वाले शब्दों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है जिनमे जोर्गन ,smilies और स्लैंग वर्ड्स शामिल है |
  • पीविश वर्ड्स ऑफ़ स्लैंग में अंग्रेजी में यूज़ होने वाली स्लैंग भाषा के शब्दों की जानकारी आपको मिल जाती है
  • फालडाल डॉट ओर्ग में आपको व्यापार कंप्यूटर और अन्य जगत से जुड़े तीन लाख से भी अधिक शब्दों की जानकारी मिल सकती है और अधिक जानकारी के लिए आप एक से अधिक वेबसाइट पर सर्फ कर सकते है |

ये है कुछ स्लैंग शब्द – 

डेस्परेट- इसका अर्थ है किसी चीज के लिए का बेसब्री से इंतजार करना या उतावला होना। -`डेस्पो इसका स्लैंग है

फ्लर्टेशनशिप, ये फ्रेंडशिप और रिलेशनशिप से मिल कर बना है। इसका मतलब है फ्रेंडशिप से ज्यादा और रिलेशनशिप से कम।

फोमो का फुल फॉर्म है `फियर ऑफ मिसिंग आउट।’

जेएफएफ यानी `जस्ट फॉर फन’। किसी काम को मजे लेने के लिए करना ही जेएफएफ है।

एमओएस या डीओएस बोलकर फोन कट कर देते हैं और पेरेंट्स सोचते रह जाते हैं कि आखिर उन्होंने क्या कहा। एमओएस का मतलब `मॉम ओवर शोल्डर’ यानी मम्मी पास खड़ी है और डीओएस यानी `डैड ओवर शोल्डर।’

टीटीवाईएल यानी टॉक टू यू लेटर, जिसका अर्थ हुआ बाद में बात करता/करती हूं। चैटिंग के दौरान कई बार यंगस्टर्स को चैट बीच में छोड़नी पड़ती है, उस वक्त इस शब्‍द का इस्तेमाल करते हैं।

योलो-`यू ऑनली लिव वंस’ जिसका अर्थ है दोस्तों को किसी ऐसी चीज के लिए जोर देना, जो वे करने से डरते हैं या नहीं करते। ऐसे में वह एक लंबी लाइन लिखने की बजाय योलो शब्द ही लिख या बोल देते हैं।.

एनएसएफडब्ल्यू यानी नॉट सेफ फॉर वर्क। किसी वेब पेज, वीडियो या फोटो के नीचे लिखे इस शब्द का अर्थ कि उक्त सामग्री ऑफिस के लिए सेफ नही हैं।

तो ये है कुछ स्लैंग शब्द और इनके अलावा हजारों ऐसे शब्द है जिनका इस्तेमाल युवा करते है |

आपको ये पोस्ट ” स्लैंग भाषा इस्तेमाल करने से भूल रहे हम भाषा ” कैसी लगी इस बारे में अपने विचार हमे कमेन्ट के माध्यम से बताएं और साथ ही हमारी Updates पाने के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है | Image Source