Home General Knowledge कमाल के अघोरी साधुओं के बारे में जानिए कुछ रोचक बातें

कमाल के अघोरी साधुओं के बारे में जानिए कुछ रोचक बातें

SHARE

Aghori जिसे हिंदी में हम अघोरी प्रोनोउंस करते है असल में एक हिन्दू धर्म का एक सम्प्रदाय है और इसे फॉलो करने वाले लोगो को हम अघोरी कहते है और इस संप्रदाय को हम अघोरपंथ कहते है | हम इस शब्द को सुनते है तो हमारे मन में अघोरी साधू की छवि बनती है जो बेहद डरावना और अजीब होता है लेकिन असल में ऐसा है नहीं क्योंकि अगर आप इस Aghori की सरंचना पर गौर करेंगे तो पाएंगे कि इसी में इसका मतलब भी छिपा हुआ है जिसपर हम आगे बात करते है –

Aghori Information in hindi

अघोरी शब्द दो तत्वों से मिलकर बना है अ+घोर यानि के जो घोर नहीं हो | घोर शब्द से मतलब यंहा डरावना हो सकता है या कठोर या अजीब हो सकता है | असल में इस पंथ के मूल में जो बात है उसका मतलब है कि इसे follow करने वाले लोग बड़े सरल स्वाभाव के होते है और वो दुनियावी चीजो में यकीन और मतलब नहीं रखते हुए एक सधानापूर्ण जीवन अपनाते है | ऐसा भी माना जाता है कि ये Aghori Sadhu भगवान् शिव का जीवित रूप है और यह शिव के पांच रूपों में से एक रूप है इसलिए इन्हें अक्सर भांग या किसी नशे में रहने वाला सन्यासी भी माना जाता है | ऐसा कहा जाता है कि ये किसी से कुछ मांग नहीं करते है और अक्सर शमशान में रहते है साथ ही कुम्भ के मेले में इनकी बड़ी संख्या देखी जा सकती है और बाकि के पूरे साल ये मुश्किल से ही दिखाई देते है |

aghori information in hindi
aghori information in hindi

शमशान में रहने की वजह इन्हें अक्सर तंत्र क्रियाओं से भी जोड़ा जाता है लोग मानते है कि लोग शमशान में तंत्र क्रिया करते है | 1000 वर्ष पुराने इतिहास होने के बाद भी आज इनकी संख्या में बहुत कमी आई है तथा इनके उद्गम स्थल को वाराणसी माना जाता है | पहली नजर में लोग इन्हें देख्नते के अनुभव को अजीब मानते है और ऐसा समझते है कि ये लोग भगवान् शिव की तरह नशे में रहते है | वजह होता है इनका पहनावा ,वह अजीब होता है क्योंकि Aghori अक्सर अपने शरीर पर एक लंघोट के अलावा कुछ नहीं पहनते है जबकि कुछ तो केवल नग्न होकर विचरण करते है और मिटटी और रख से सना इनका शरीर किसी भी देखने वाले को थोडा असहज तो कर ही सकता है | Aghori मान्यताओं के अनुसार इस तरह के साधू बाहरी दुनिया से बहुत कम सम्पर्क रखते है और रहने और खाने के लिए हमारी आज की तरह की सोसाइटी के तौर तरीकों पर इनकी जिन्दगी कतई निर्भर नहीं होती है | ऐसा कहा जाता है कि ये लोग एक खास तरह की साधना करते है जिसे अघोर विद्या भी कहा जाता है और इसे करने के लिए आदमी को मोह माया और समाज और पैसे का त्याग करना पड़ता है जिसके बाद ही आप इस विद्या को अपना सकते है |

इतने अजीब दिखने के बाद भी लोग इन्हें देखना या इनके सम्पर्क में आने को शुभ मानते है और लोगो को अक्सर इनसे आशीर्वाद लेते हुए देखा गया है क्योंकि माना जाता है कि ये जल्दी से आशीर्वाद नहीं देते है लेकिन अगर दे देते है तो यूँ समझिये कि वो फलीभूत हो ही जाता है | तो ये है Aghori Information in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है और हमसे regular update पाने के लिए आप लाल रंग के घंटे के निशान पर भी क्लिक कर सकते है |

Image Credit – demo pic