Home स्वास्थ्य back pain treatment hindi – कमर दर्द के कारण और इसके उपाय

back pain treatment hindi – कमर दर्द के कारण और इसके उपाय

SHARE

कमर दर्द के कारण लक्षण और इसके उपाय जानिए (Back Pain Treatment Hindi)

back pain treatment hindi – कमर दर्द की समस्या भी एक व्यापक समस्या है | दुनियाभर में लोग बदलती और स्थिर जीवनशैली के चलते तरह तरह की समस्यायों जैसे मोटापा , कमर दर्द और काम के तनाव जैसी समस्याओं से दो चार हो रहे है जिसका प्रभाव किसी भी आम जिन्दगी पर देखने को मिल सकता है और वैज्ञानिक आंकड़े बताते है कि दुनियाभर में एक जगह बैठकर काम करने वाले लोगो में से 95 प्रतिशत और बाकि अन्य लोगो में 80 प्रतिशत लोग कमर दर्द (back pain) से परेशान है और इसमें महिलाओं की संख्या में अधिक है लेकिन जैसा कि हम अक्सर कहते है जो दुष्परिणाम हमारी अव्यवस्थित जीवनशैली का परिणाम होते है हम उन्हें बड़ी आसानी से बदल सकते है अपनी आदतों में बदलाव करने से | चलिए इस बारे में कुछ महत्वपूर्ण चीजो पर गौर करते है –

कमर दर्द (back pain) के कारण क्या क्या है – इस बारे में हम थोडा बात करते है क्योंकि शरीर का अस्वस्थ होने में जितना योगदान पर्यावरण सम्बन्धी कारणों का है उस से कंही अधिक योगदान हमारी बदली जीवनशैली है इसलिए आप इन आदतों को बदल कर ‘कमर दर्द’ से निजात पा सकते है |

लम्बे समय तक बैठना – चूँकि हमारे शरीर में किसी भी अंग के मुकाबले हमारे सिर का भार सबसे अधिक होता है और सबसे ज्यादा हम इस्तेमाल भी इसे ही करते है | ऐसे में हमारे सिर की गतिशीलता को बनाये रखने के लिए हमारे रीढ़ की हड्डी को बहुत मेहनत लगती है जिसके कारण अगर हम पूरा दिन एक ही स्थिति में बैठे रहते है या कंप्यूटर डिवाइस पर काम करते हुए दिन के काफी घंटे हम बिताते है तो ऐसे में हमारी मांसपेशिया थक जाती है जबकि अगर लम्बे समय तक अपनी इस आदत को नहीं बदलते है तो यही दर्द और थकान जो है वो स्थायी हो जाती है जिसका खामियाजा हमे कमर दर्द (back pain) के रूप में भुगतना पड़ता है |

recommend to Read : स्लिम ट्रिम होने का तरीका

आधुनिक उपकरणों की आदत – चूँकि tech era है इसलिए किसी भी गैजेट जैसे smartphone ,laptop iphone जैसे उपकरणों के इस्तेमाल के बिना हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते है जबकि जब जब हम इन्हें इस्तेमाल करते है कभी स्वास्थ्य सम्बन्धी सावधानियो पर हमारा ध्यान नहीं जाता है और कुछ लोग तो smartphone में इतनी तल्लीनता के साथ खो जाते है कि उन्हें वो किस मुद्रा में है ध्यान ही नहीं रहता है जिसके कारण अत्यधिक इस्तेमाल और असावधानी के चलते हमे कमर दर्द ,गर्दन दर्द जैसी समस्याओ से गुजरना पड़ता है क्योंकि इस से गर्दन और कमर की मांसपेशी में खिंचाव आ जाता है और स्थायी होने पर यह कमर दर्द (back pain) में बदल जाता है |

back pain treatment hindi
back pain treatment hindi

 

अधिक फैशनेबल होना – फैशनेबल होना अच्छा है लेकिन आजकल के फैशन ने हमे कई तरह की शारीरिक असुविधाएं भी उपहार में दी है और जैसे की टाइट कपडे आज के फैशन की दें है | टाइट जीन्स और टाइट टीशर्ट या जैसे कि टाइट बेल्ट के इस्तेमाल से होता ये है कि हमारा शरीर तनाव की मुद्रा में आ जाता है जिसके परिणामस्वरूप मांसपेशीओं में रक्त संचार में बाधा होती है जिसकी वजह से भी कमरदर्द सहित अन्य परेशानिया सामने आती है |

सही गाड़ी का चुनाव नही करना – अक्सर जब हम गाड़ी खरीदते है तो उसमे मिलने वाली सुविधाओं को अधिक तवज्जो देते है कि गाड़ी में फीचर क्या क्या है जबकि ऐसे में आपको अपने शरीर के मुताबिक ये देखना चाहिए की गाड़ी में जब आप बैठते है तो आपके सीट और स्टीयरिंग में सही दूरी है या नहीं है क्योंकि ऐसे में अगर बैठने के बाद आप सहज महसूस नहीं करते है तो आपको बाद में परेशानी का सामना करना पड़ता है और चूँकि महिलाओं की कमर पुरुषो के मुकाबले अधिक लचीली होती है इसलिए उन्हें अपने शरीर के मुताबिक सक्षम साधन का चुनाव करना चाहिए नहीं तो गाड़ी को सतुलित करने के लगने वाला बल जो है वो सीधा सीधा कमर और पैरो पर पड़ता है और इसी अतिरिक्त बल की वजह से कमर दर्द की परेशानी सामने आती है |

व्यायाम करने के दौरान सावधानी बरते – जब भी आप टीवी या किसी पत्र पत्रिका में दिए व्यायाम के स्टेप्स को फॉलो करते है तो ध्यान रखें आपके शरीर में कोई असुविधा नहीं हो रही हो और ऐसे में किसी प्रशिक्षक की मदद लेना भी अच्छा विचार है क्योंकि गलत तरीके से किया गया व्यायाम आपके शरीर को कई तरह की परेशानियाँ दे सकता है जिसमे आपका कमर दर्द सबसे पहले आता है |

उचित वजन – मोटे लोगो में अक्सर कमर दर्द की परेशानियाँ अधिक देखने को मिलती है इसलिए आप अपने वजन को अपनी लम्बाई के अनुसार संतुलित रखने की कोशिश करें एक युवा व्यक्ति के शरीर का अपेक्षित वजन उसकी लंबाई के अनुसार होना चाहिए, जिससे कि उसका शारीरिक गठन अनुकूल लगे। शरीर के वजन को मापने के लिए सबसे साधारण उपाय है बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआइ) और यह शरीर के व्यक्ति की लंबाई को दुगुना कर उसमें वजन किलोग्राम से भाग देकर निकाला जाता है।

भार/लंबाई अनुपात वर्गीकरण
< 18.5 कम भार
18.5–24.9 सामान्य भार
25.0–29.9 अधिक भार
30.0–34.9 श्रेणी-१ मोटा
35.0–39.9 श्रेणी-२ मोटा
> 40.0   श्रेणी-३ मोटा

 

कमर दर्द के लक्षण – अगर आपको निम्न तरह के लक्षण दिखाई देते है तो मैं कहना कहूँगा ये वक़्त है सचेत हो जाने का क्योंकि ये सारे लक्षण आपको दीर्घकालीन कमर दर्द से पहले की अलार्म की तरह दिखते है और यही मौका है आपके पास अपनी आदतों को बदल डालने का –

  • कमर के पिछले हिस्से में दर्द की शुरुआत होने लगती है |
  • अगर आप एक्सरे करवाते है तो उसमे आपके रीढ़ की हड्डी के बीच में जॉइंट स्पेस कम होना जो अधिक बैठे रहने के कारण हो जाते है |
  • कमर में कड़ापन और ऐसे में अगर आप सोते है या लेटते है तो ही आपको राहत मिलती हो |
  • दिन की शुरुआत के साथ बैठने में समस्या होना जो दिन के दौरान बढती ही जाती है |

कमर दर्द से कैसे पायें राहत – ये कुछ उपाय और सावधानियां है जिनकी मदद से आप कमर दर्द का बचाव कर सकते है या राहत पा सकते है –

  • महिलाओं के लिए सबसे जरुरी है कि शरीर की क्षमता के अनुसार ही दुपहिया वाहन का चुनाव करे और आजकल तो बाजार में महिलाओ के लिए बहुत बेहतरीन वाहन मौजूद है तो ऐसे में टेस्ट ड्राइव लेकर अपने लिए बेहतर वहां का चुनाव करें |
  • सीधे उठने की जगह आप थोडा करवट लेकर बिस्तर से सुबह उठें |
  • प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में ही कोई व्यायाम करें |
  • अगर आप लम्बे समय तक कंप्यूटर पर बैठकर काम करते है या लम्बे समय तक अध्यन करते है तो हर घंटे में पांच दस मिनट का ब्रेक लेलें ऐसे में आपकी प्रोडक्टिविटी बनी रहती है और आपके शरीर को भी काफी आराम मिलेगा |
  • smartphone इस्तेमाल करते समय अपने शरीर की गतिविधि का भी आवश्यक रूप से ध्यान रखें एक ही मुद्रा में या झुके हुए इनका इस्तेमाल अधिक देर तक करने से बचे |
  • लम्बी हील्स वाली सेंडल को नियमित रूप से नहीं पहने |

इन तमाम उपायों के बाद भी अगर आपका कमर दर्द आपका पीछा नहीं छोड़ता है तो आवश्यक है कि आप किसी चिकित्सक की सलाह अवश्य लें और कमर दर्द के इन लक्षणों की अनदेखी नहीं करें अन्यथा बुढ़ापे में आपको बड़ी मुश्किलें उठानी पड़ेंगी |

ये ‘  back pain treatment hindi ’ पोस्ट आपको कैसे लगी इस बारे में हमे अपने विचार नीचे कमेन्ट के माध्यम से अवश्य दे  । हमारी पोस्ट को ईमेल से पाने के लिए आप हमारा फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है ।  NEXT

यदि आपके पास Hindi में कोई Hindi article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया [email protected] हमे  E-mail करें पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे..