Home Banking Knowledge जानिए कितने तरह के होते है बैंक और वित्तीय संस्थाएं

जानिए कितने तरह के होते है बैंक और वित्तीय संस्थाएं

SHARE

Bank कोई ऐसा संस्था नहीं है जिसके बारे में हम जानते नहीं है और कोई भी देश की अर्थव्यवस्था और देश के नागरिकों की पूंजी को सुरक्षित रखने में banking का अहम् योगदान है और क्या आप जानते है की सभी banks एक तरह से काम नहीं करते है या वे सभी एक ही तरह के नहीं होते है , अगर नहीं तो चलिए जानते है bank types के बारे में थोडा विस्तार से –

Bank types in hindi

भारत में अभी जो banking की व्यवस्था है उसकी ठीक से शुरुआत ब्रिटिश काल में हुई थी जब ब्रिटिश ईस्ट इंडियन कम्पनी ने 3 banks की शुरुआत की जिन्हें बाद में विलय करने के बाद एक नये बैंक “ इंपीरियल बैंक” की स्थापना की गयी और बाद में यही “भारतीय स्टेट बैंक “ बना | भारतीय स्टेट बैंक कैसे बना और कैसे यह भारत का एक राष्ट्रीयकृत बैंक बना इस बारे में आप हमारी एक पोस्ट SBI History पढ़ सकते है | हाँ तो हम बात कर रहे थे types of banks के बारे में आपको बता दूँ कि इस बारे में कोई सीधी सी श्रेणी नहीं है पर हाँ हम सुविधा के तौर पर या कुछ अन्य विशेषताओं के आधार पर banks को अलग अलग श्रेणी में समझ सकते है और पढ़ सकते है |bank types in hindi

और यह निम्न है – आप इन्हें नीचे दी गयी सारणी में bank types देख सकते है और कुछ नामों से तो आप परिचित भी है

  1. केन्द्रीय बैंक
  2. पब्लिक सेक्टर बैंक
  3. प्राइवेट सेक्टर बैंक
  4. सहकारी बैंक
  5. विकास बैंक
  6. पेमेंट बैंक्स

bank types in details – अब हम इनके बारे में विस्तार से जानते है |

केन्द्रीय बैंक – यह एक केन्द्रीय बैंक होता है जो भारत के सभी banks के लिए गाइडलाइन्स बनाता है और ध्यान रखता है की सभी banks उनका पालन करें , दूसरे शब्दों में कहें तो यह एक तरह से banks के लिए रेगुलेटर का काम करता है और इसे हम “ रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया “ के नाम से जानते है |

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक / पब्लिक सेक्टर बैंक – ये वो बैंक या banking संस्थाएं होती है जिनमे सरकार का कुल 50 प्रतिशत से अधिक हिस्सा होता है और ऐसे भारत में कुल 27 बैंक है जिसमे 21 राष्ट्रीयकृत बैंक और 6 स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया और उसकी सहयोगी banks है और साथ ही आपको बता दें कि अभी स्टेट बैंक की सभी सहयोगी banks का मर्जर हो रहा है जिसके अंतर्गत बाकि सभी स्टेट बैंक समूह के banks का विलय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में हो जायेगा | स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया , ओरिएण्टल बैंक ऑफ़ कॉमर्स , पंजाब नेशनल बैंक जैसे बैंक इसी श्रेणी में आते है |

निजी क्षेत्र के बैंक / प्राइवेट सेक्टर बैंक – ये वो बैंक है जिसमे किसी निजी व्यक्ति या संस्था का हिस्सा होता है और यह हम यह कह सकते है कि किसी प्राइवेट सेक्टर बैंक का मतलब उस बैंक से है जिसमे इक्विटी के तौर पर अधिकतर हिस्सा प्राइवेट शेयर होल्डर्स के पास होता है |  HDFC , Axis Bank जैसे बैंक इसी श्रेणी में आते है |

सहकारी बैंक – यह उस तरह की banking संस्थाएं होती है जो सहकारिता के तौर पर कार्य करती है जिसका मकसद होता है इसके मेम्बर्स के द्वारा धन जमा करना और जरुरत होने पर उन्हें ऋण की सुविधा भी उचित ब्याज पर उपलब्ध करवाना , इस तरह की संस्थाओं का भारत की अर्थव्यवस्था में बेहतरीन योगदान है क्योंकि यह ग्रामीण इलाकों में बेहतर तरीके से काम करती है | सहकारी बैंकिंग क्षेत्र को निम्नलिखित श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है  जो इस प्रकार है – 1. राज्य सहकारी बैंक 2. केन्द्रीय सहकारी बैंक 3. प्राथमिक कृषि ऋण सोसायटी और इसमें सबसे उच्च स्तर की संस्था राज्य सहकारी बैंक होती है क्योंकि उसकी RBI तक पहुँच होती है |

विकास बैंक – ये उस तरह के बैंक होते है जो दूसरे banks की तरह सभी तरह के कार्य करने के लिए नहीं बनाये जाते है जबकि इनके गठन के मकसद होता है किसी खास तरह के क्षेत्र का विकास और उसी के अनूरूप ये अपनी प्राथमिकता वाले किसी क्षेत्र में निवेश और व्यवसाय को प्रोत्साहित करके आर्थिक प्रगति को तेज करते है | आईएफसीआई ,आईडीबीआई,नाबार्ड आदि इसी श्रेणी में आते है |

पेमेंट बैंक्स – bank types में ये अभी हाल ही में शुरू किये गये कुछ खास तरह के banks है जो दूसरे banks से अलग है और इसमें बहुत सी कंपनीज को RBI के द्वारा banking काम करने के लिए लाइसेंस दिया गया है लेकिन एयरटेल ने सबसे पहले अपने पेमेंट बैंक को स्टार्ट करके भारत में पेमेंट बैंक शुरू करने वाला पहला बैंक बन गया है | पेटियम भी अभी इसी दिशा में काम कर रहा है और जल्दी ही अपना पेमेंट बैंक लाने की तैयारी में है | पेमेंट्स बैंक क्या है और यह कैसे काम करते है इस बारे में जानने के लिए आप यंहा क्लिक कर सकते है |

तो ये है bank types in hindi और इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है या हमे Hindi Updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर फॉलो कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है और लाल रंग के घंटे के निशान पर क्लिक करके भी आप ये कर सकते है |

Image Source – demo pic