Home मेरी कवितायेँ बरसो बाद…..

बरसो बाद…..

SHARE

बरसो बाद…..
आज उन्ही धुंधली सी यादों में
फिर से खोया मैं,
दर्द उतना ही गहरा है
जाना मैंने
फिर से एक अरसे बाद
जब खुल के रोया मैं
हक क्या था तुम्हे
यूँ मुझे छोड़ जाने का ,
क्यों जिन्दगी में रंग भरे ,
क्यों मेरे संग सपने बुने
कुछ खूबसूरत लम्हे भी
फिर उम्र भर के लिए तन्हा कर दिया
पागल ‪#‎लड़की‬ कोई बहाना भी तो देती मुझे
मुझमे लौट आने का…

कमल अग्रवाल