Home Short Stories श्रेष्ठ व्यक्ति – Best person story

श्रेष्ठ व्यक्ति – Best person story

SHARE

Best person Story – एक बार भगवान् बुद्ध अपने कुछ शिष्यों के साथ किसी शहर में रुके | जब शिष्य शहर के अंदर घूमने के लिए गये तो वंहा के लोगो ने उन्हें बहुत ही बुरा भला कहा इस पर वो सारे क्रोधित होकर भगवान् बुद्ध के पास वापिस लौटे और उन्हें सारी घटना को बताते हुए कहा कि उन्हें यंहा से किसी और जगह के लिए प्रस्थान करना चाहिए क्योंकि यंहा के लोग अच्छे नहीं है इस पर भगवान् बुद्ध ने उन लोगो से कहा कि वे क्या किसी और जगह अच्छे व्यवहार की आशा रखते है तो उन लोगो ने कहा निश्चित रूप से यंहा जो माहोल है उस से तो अच्छा ही होगा |

बुद्ध बोले किसी जगह को केवल इस वजह से छोड़ना बेहद गलत है कि लोग तुमसे बुरा व्यवहार करते है हम लोग संत है कम से कम हमे तो ऐसा नहीं सोचना चाहिए हमे तो ऐसा व्यवहार रखना चाहिए और ऐसी मंशा रखनी चाहिये कि जब तक यंहा का एक एक व्यक्ति सुधर नहीं जाये तब तक हमे यंहा से नहीं चलना चाहिए |

वे लोग हमारे अच्छे व्व्यव्हार करने पर हो सकता है सो बार बुरा बर्ताव करें लेकिन आखिर कब तक ? अंत में तो उन्हें सुधारना ही पड़ेगा न और वो उत्तम व्यक्ति बनने का प्रयास करेंगे ही |तब बुद्ध के सबसे प्रिय शिष्य आनंद ने पूछा की गुरूजी अच्छा और उतम व्यक्ति कौन होता है |

बुद्ध ने जवाब दिया की जिस प्रकार युद्ध के दौरान हाथी किसी की परवाह नहीं करता और सब तरह की चोट को सहते हुए आगे बढ़ता जाता है उसी के प्रकार जो मनुष्य सभी तरह के अपशब्दों को सहते हुए भी अपनी भाषा की मर्यादा को बनाके रखता है और सब से अच्छे से व्यवहार करता है फिर चाहे लोग कैसा भी क्यों न करे |वही पुरुष उत्तम पुरुष होता है |

शिष्यों ने उस शहर से जाने का विचार त्याग दिया |