Home Short Stories उत्तम जल – Best Water Budhha Hindi Kahani

उत्तम जल – Best Water Budhha Hindi Kahani

SHARE

Best Water -एक बार भगवान् बुद्ध राजगृह में थे नित्य परवचन देने के बाद बाद वो सांयकाल में अपने शिष्यों के साथ बैठकर विभिन्न विषयों पर चर्चा किया करते थे | ऐसा करने के पीछे दो कारण थे एक तो शिष्यों का ज्ञानवर्धन होता था और दूसरा वो शिष्यों के तुलनात्मक बौधिक स्तर से अवगत हो जाते | एक दिन वो हमेशा की तरह अपने शिष्यों के साथ बैठे हुए थे तो उन्होंने अचानक एक प्रश्न उठाया कि क्या तुम जानते हो सबसे उत्तम जल कौनसा है ??

एक शिष्य ने तत्काल उत्तर दिया और बोला कि -गंगाजल सबसे उत्तम है | दुसरे ने कहा -जमीन पर गिरने से पहले का वर्षाजल | तीसरे ने जवाब दिया -उषाकाल की किरणों में चमकता हुआ ओस का जल | बुद्ध तीनो से जरा भी सहमत नहीं हुए तो इस पर एक शिष्य का जवाब आया बिछड़े हुए बेटे से मिलने पर माँ की आँखों में जो जल होता है वो सबसे उत्तम होता है और भी सभी शिष्यों ने कई तरह के जवाब दिए तो किसी भी उत्तर से बुद्ध सहमत नहीं हुए और तो इस बीच काफी देर से मौन बैठे हुए शिष्य आनंद का जवाब आया कि कि इन सबमे भी एक सबसे उत्तम जल वो होता है जो बिना दिन रात की परवाह किये खेतो में कठोर मेहनत करके हमारे लिए अन्न पैदा करने वाले किसान का श्रम जल | जो किसी भी जल से कंही अधिक वन्दनीय है |

उत्तर सुनकर शिष्यों समेत बुद्ध के चेहरे पर संतुष्टि की मुस्कान फ़ैल गयी |