Home स्वास्थ्य भोजन करने का तरीका सिखाएं बच्चो को

भोजन करने का तरीका सिखाएं बच्चो को

SHARE

bhojan karne ke niyam – भोजन करने का तरीका कैसा है यह हमारी जिन्दगी में हम पर स्पष्ट प्रभाव डालता है और हमारी दिनचर्या ही अगर अच्छी नहीं होगी तो जाहिर सी बात है प्रोडक्टिविटी भी बेहतर नहीं हो पायेगी क्योंकि हमारे द्वारा लिया गया भोजन ही हमे हमारे शरीर के लिए जरुरी उर्जा मुहैया करवाता है इसलिए आवश्यक है कि हम इसे तरीके से करें और साथ ही हम अपने बच्चो को भी स्वस्थ चाहते है तो हमे शुरू से ही उन्हें भोजन किस तरीके से किया जाना चाहिए ये सिखाने की आवश्यकता तो है इसलिए चलिए इस बारे में बात करते है –

बच्चो को सिखाएं भोजन करने के सही तरीका

चूँकि बच्चे हम भी थे तो जानते है कि बचपन में हमारे केवल दो ही मुख्य काम होते थे एक तो खेलना और दूसरा खाना तो जरुरी है कि खाने के मामले में थोडा सा ध्यान और जागरूकता रखी जाएँ क्योंकि भोजन की सही और अच्छी आदत अगर हम अपने बच्चो में शुरू से डालते है तो उम्र भर बनी रहती है हालाँकि बड़ी होने पर लड़कियां अपनी काया के लिए सचेत हो जाती है तो वो भोजन के मामले में थोडा चुनाव करना पसंद करती है कि क्या खाया जाए और क्या नहीं ? और कुछ मामलों में लड़के भी हो जाते है लेकिन फिर भी शुरूआती दौर में हम अपने बच्चो को भोजन संबधी जागरूकता के बारे में बता सकते है |

क्या होने चाहिए भोजन करने से जुड़े नियम – वैसे भोजन के लिए ये नियम बच्चो और बडो सभी के लिए मान्य है इसलिए आईये इन पर एक नजर डालते है

  • खाना खाने से पहले अपने हाथ अच्छे से धो लें और खाने के बाद अच्छे से कुल्ला करें ताकि भोजन के कण हमारे दांतों में फसकर नहीं रह जाएँ |
  • भोजन बड़े ही आराम से और चबा चबा कर करें |
  • भूख तेज लगी तो भी खाना खाते समय बड़े संयम से पेश आयें जल्दबाजी में निवालों को निगले नहीं और प्रेम से खाना खाएं | ध्यान रखें भोजन करने का पहला कदम हमारे मुह से शुरू होता है पेट में तो बाद में पचने के लिए जाता है इसलिए हमारे पेट को अधिक मेहनत नहीं करनी पड़े खाने को पचाने में इसलिए इस बात का ध्यान तो जरुर रखें |
  • बच्चो को जरुरत से अधिक चोकलेट , बिस्कुट ,मीठी चीज़े और कैंडी नहीं देनी चाहिए क्योंकि बच्चे ब्रश करने के मामले में बड़े आलसी होते है और ये सारी चीज़े उनके दांतों को खराब करती है |

    bhojan karne ke niyam -भोजन करने का तरीका सिखाएं बच्चो को
    bhojan karne ke niyam -भोजन करने का तरीका सिखाएं बच्चो को
  • cold drinks और इस से मिलती जुलती चीजों के बारे में बच्चो को बताएं कि इनका इस्तेमाल कभी कभी किसी अवसर पर करें क्योंकि ये हमारी जिन्दगी में किसी चीज़ का विकल्प नहीं है थोड़े से मजे के बाद सेहत पर बुरा असर करती ही है |
  • 24 घंटे खाने के पीछे नहीं पड़े रहे और पेट को कुछ घंटे आराम भी दें | खाने की मशीन नहीं बने |
  • कम मसाले और कम मिर्च वाला भोजन सेहत के लिए अच्छा होता है ऐसा भोजन जो बिना किसी लगावन के आराम से खाया जा सकता है असल में कई बार अधिक पोषक तत्वों वाला होता है |
  • टीवी देखते समय या कोई मनपसंद कार्यक्रम देखते समय भोजन नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसे में मस्ती मस्ती में भोजन ज्यादा खाया जाता है और हमे पता प्रोग्राम के खत्म होने के बाद लगता है |
  • घर के बने खाने के बारे में बच्चे को इसकी इम्पोर्टेंस बताएं और घर में बनी नमकीन और मीठी चीजों का सवाल बाहरी चीजों के विकल्प के तौर पर बच्चो को खिलाएं |
  • चूँकि बच्चे खाने की मेज पर जिद करते है कि ये नहीं खाना या वो नहीं खाना इसलिए बच्चे के मन में भोजन के लिए सम्मान विकसित करें ताकि भोजन के मामले में आपका बच्चा शुरू से ही अलग नजरिया रखे जो उसे जिन्दगी भर काम आने वाला है |

तो ये कुछ बातें है जो हम अपने बच्चो में शुरूआती दौर में विकसित कर सकते है | आपको ये पोस्ट ” bhojan karne ke niyam -भोजन करने का तरीका सिखाएं बच्चो को  ” केसी लगी इस बारे में अपने विचार हमे अपनी कमेन्ट के माध्यम से जरुर से दें और हमारी फेसबुक पेज को अपडेट पाने के लिए लाइक करें | Image Source