Home Short Stories हीरे की परख – diamond essay in hindi

हीरे की परख – diamond essay in hindi

SHARE

diamond essay in hindi -एक हीरे का व्यापार करने वाला व्यापारी था जिसे हीरे की बड़ी समझ थी और अपने इलाके में वो हीरे का सबसे बड़ा विशेषज्ञ माना जाता था | किन्तु किसी गंभीर बीमारी के चलते अल्पायु में ही उसकी मृत्यु हो गयी | वह अपने पीछे अपनी एक पत्नी और एक बेटा छोड़ गया तो जब उसका बेटा बड़ा हो गया तो उसकी माँ ने उसे कहा कि बेटा तुम्हारे पिताजी मरने से पहले ये कुछ पत्थर छोड़ गये है इसलिए तुम इन्हें लेकर बाजार जाओ और इनकी कीमत का पता लगाओ |

लेकिन ध्यान रखना तुम्हे केवल कीमत पता करनी है इन्हें बेचना नहीं है | तो वह लड़का उसे लेकर बाजार में उसकी कीमत पता करने निकला सबसे पहले उसे एक मजदूरी करने वाला मिला तो उसने उसे इसकी कीमत के बारे में पुछा तो उसने कहा ऐसे पत्थर मैं रोज ढोता हूँ ये मेरे किसी काम का नहीं है | आगे चलकर वो युवक एक सब्जी बेचने वाले के पास पहुँच गया तो उसने कहा कि मेरे तो ये अधिक से अधिक सब्जी तौलने के काम आ सकता है तो मैं इसके बदले में तुम्हे कुछ सब्जी दे सकता हूँ इस पर वह युवक एक दुकानदार के पास पहुंचा तो दुकानदार ने उस से कहा यह इस पत्थर के लिए मैं तुम्हे अधिक से अधिक पाच सौ रूपये दे सकता हूँ यह इस से अधिक कीमत का नहीं है |

फिर वो युवक उसे लेकर एक स्वर्ण कारीगर के पास गया तो उसने इसके बदलें में एक लाख रूपये देने की बात कही | अंत में वो लड़का शहर के हीरा विशेषज्ञ के पास पहुंचा और बोला कि कृपया इसकी कीमत बताने के कष्ट करें तो उस विशेषज्ञ अचरज से उस युवक को देखते हुए बोला ये तो एक हीरा है जो कि अमूल्य है करोड़ रूपये देकर भी ऐसे हीरे का मिलना मुश्किल है |

सही कहा गया है हर किसी के लिए किसी भी चीज़ का मूल्य उसकी आवश्यकता पर निर्भर करता है जिसे उसकी जरुरत है और सही पहचान है वही उसकी उपयोगिता समझ सकता है |