Home Short Stories चील के पंख – eagle story motivational hindi

चील के पंख – eagle story motivational hindi

SHARE

eagle story motivational -एक दिन एक चील आसमान में उड़ रही थी कि उसने धरती पर मोरों को नाचते हुए देखा तो उसे उन्हें देखकर बड़ी ख़ुशी हुई क्योंकि उसे उनके रंग बिरंगे पंख बड़े खूबसूरत लग रहे थे | वह सोचने लगी काश मेरे पास भी ऐसे अच्छे प्यार पंख होते तो कितना अच्छा होता | मैं भी मोर की तरह सुंदर दिखती |

वह नीचे उतरी और एक मोर के पास जाकर बोली भैया मुझे अपने पंख देदो तो मोर ने कहा तुम्हारे पास अपने है तो सही फिर तुम मेरे पंख क्यों चाहती हो | वो बोली है तो सही लेकिन वो बड़े भद्दे है इसलिए मुझे तुम्हारे जैसे रंग बिरंगे और खूबसूरत पंख चाहिए | इस पर मोर ने कहा तुम्हे पंख तो मिल जायेंगे पर तुम्हे नाचना पड़ेगा इस पर चील बोली मैं कैसे नाच सकती हूँ मुझे तो ये नहीं आता | चील निराश होकर आसमान में उड़ने लगी |

कुछ देर उड़ने के बाद उसने सुग्गे को पेड़ पर बैठे हुए देखा तो उसके हरे हरे पंख उसे बहुत भाये तो सुग्गे के पास जाकर उसने यही प्रश्न किया तो सुग्गे ने भी कहा तुम्हे पख तो मिल जायेंगे लेकिन फिर तुम्हे सुग्गे की भाषा बोलनी पड़ेगी | इस पर चील ने मैं ये कैसे कर सकती हूँ और निराश होकर वह वंहा से भी उड़ गयी |

आगे कुछ दूरी पर उसने कोयल को गाते देखा तो उसने उस से भी उसके पंखो की मांग की इस पर कोयल ने कहा कि मेरी शर्त को पूरी करती हो तो मैं तुम्हे पंख दे सकती हो तुम्हे मेरी जेसी आवाज में गाना होगा इस पर कोयल ने कहा नहीं बहन गाना तो मुझे बिलकुल भी नहीं आता है इसलिए ये तो मैं नहीं कर सकती तो कोयल ने कहा फिर मैं भी तुम्हे अपने पंख नहीं दे सकती | इतने में चील ने देखा कि कुछ शिकारी आ गये है तो सब पक्षी भागने लगे तो शिकारियों ने उड़ते हुए पक्षियों पर निशाना लगा कर सबको मार गिराया लेकिन चील के बहुत ऊंचे और तेजी से उड़ जाने के कारण वो उसे नहीं मार सके|

इस पर चील ने सोचा कि अगर मेरे पास इतने मजबूत और बड़े पंख नहीं होती तो मैं आज बिलकुल नहीं बच पाती इसलिए मेरा ये ख्याल बुरा था यही पंख मेरे लिए अच्छे है |

सही कहा गया है हर इन्सान के पास जो है वो बहुत बेहतर है हमे नक़ल करके किसी की कुछ अधिक की आशा नहीं करनी चाहिए