Home स्वास्थ्य कान के मामले में रखे इस बात का ध्यान

कान के मामले में रखे इस बात का ध्यान

SHARE

Ears हमारी शरीर के सबसे sensetive parts में से होते है और इसकी वजह से ही हम बाहरी दुनिया से सम्पर्क और सवांद करते है इसलिए प्रकृति ने वैसे तो कान के लिए काफी सुरक्षा उपाय कर रखे है लेकिन फिर भी कभी कभी कान पर अचानक चोट लग जाने , बातों ही बातों में या क्लास में टीचर के थप्पड़ मारने पर और कभी कभी तो कान साफ़ करते समय सावधानी नहीं रखने की वजह से ही कान के परदे में खराबी आ जाती है और थप्पड़ मारने या चोट लगने की श्थिति स्थिति में कान पर पड़ने वाला दबाव समान्य दबाव से अधिक होता है वो अगर सहन करने की सीमा से अधिक होता है तो कान का पर्दा फट भी सकता है और ऐसे में कान में कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती है जैसे सुनने की क्षमता में कमी होना और लगातार गूंज सुनाई देना और कभी कभी तो बात बढ़ जाने पर बैचनी ,चक्कर आने जैसी समस्याए भी सामने आती है तो चलिए ear problem and solution  के बारे में थोड़ी और बात करते है –

Ear problem solution in hindi

अगर आपको ऊपर दिए किसी कारण की वजह से कान में कोई problemआती है और कान का पर्दा आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो जाता है जिसका प्रभाव स्थायी नहीं होता है तो आपको सबसे पहले थोडा ध्यान रखने की जरुरत होती है ऐसे में ears में संक्रमण होने का खतरा सबसे पहले होता है इसलिए आप ears को पानी से बचाकर रखे और किसी भी प्रकार की दवाई ऐसे तीर तुक्के से कान में नहीं डालें और संक्रमण से कान को बचाने के लिए एंटीबायोटिक्स लेने की सलाह भी डॉक्टर देते है और दर्द होने पर दर्द निवारक दवा का भी उपयोग किया जा सकता है इसलिए आप थोडा परहेज रखने की कोशिश करें और थोड़े ही दिन में वैसे तो क्षति ठीक हो जाती है अगर गंभीर नहीं होती है तो लेकिन अगर उसके बाद भी problem वैसी ही रहती है तो कतई ignore नहीं करें और अच्छे doctor से इस बारे में सलाह ले सकते है |

कुछ बातें ध्यान में रखें / do care some thing in ear problem-

  1. एक तो कभी भी ears को साफ करते समय ऐसे ही कुछ भी चीज इस्तेमाल नहीं करें खासकर नुकीली चीजों के इस्तेमाल से बचे | कुछ लोग पेन के rifill का इस्तेमाल करते है जो बहुत ही गन्दी आदत है ऐसा करके आप अपनी सेहत के प्रति लापरवाही दिखा रहे होते है |
  2. कभी भी अपने दोस्तों के मजाक करते हुए उनके ears पर नहीं मारे |
  3. teacher लोग जो है वो ध्यान रखें बच्चे को सजा देने के और भी विकल्प हो सकते है और उसे डांटा जा सकता है या किसी और तरीके से समझाया जा सकता है या ज्यादा से ज्यादा क्लास से बाहर किया जा सकता है इसलिए ears पर मारकर खामखा परेशानी मोल नहीं लें |

    ear problem and solution in hindi
    ear problem and solution in hindi
  4. पेरेंट्स ध्यान रखें कि बच्चे थोड़ी शरारते करते है और आप भी बचपन में करते थे इसलिए उन्हें सजा देते समय ears पर नहीं मारें क्योंकि अगर कुछ problem होती है तो आप कभी खुद को माफ़ नहीं कर पाएंगे |
  5. झोलेछाप doctor और नीम हकीम से बचकर रहे और किसी भी तरह की problem होने पर cirtifid doctor की ही सलाह लें |
  6. कान में अगर कुछ problem है तो doctor की सलाह के बगेर कोई भी तरल दवाई नहीं डालें और पानी से यथासंभव बचाव करें और नहाते समय रुई का इस्तेमाल कर सकते है |

तो ये है कुछ ear problem in hindi और अधिक जानकारी के लिए आप हमारी website से hindi में अपडेट पाने के लिए फ्री ईमेल subscription ले सकते है और हमारे गूगल page को फॉलो कर हमसे जुड़ सकते है |