Home Short Stories चार सवाल – Four questions in hindi

चार सवाल – Four questions in hindi

SHARE

Four questions – एक बार एक राजा ने अपने मंत्री से कहा कि मुझे इन चार प्रश्नों के उतर चाहिए | पहला प्रश्न ‘ जो यंहा हो वंहा नहीं हो ‘| दूसरा ‘यंहा नहीं हो लेकिन वंहा हो ;| तीसरा ‘जो यंहा भी नहीं हो वंहा भी नहीं हो ‘ और चौथा और अंतिम प्रश्न ये है कि जो ‘यंहा भी हो और वंहा भी हो ‘|

मंत्री ने राजा से दो दिन का समय माँगा और राजा ने दे दिया | दो दिन बाद राजा चार व्यक्तियों को लेकर राज दरबार पहुंचा और राजा से कहने लगा राजन हमारे धर्मो के अनुसार व्यक्ति को उसके कर्म के अनुसार दो जगहे मिलती है जिनमे से एक है स्वर्ग और दूसरा है नरक |

जबकि यह जो पहला इन्सान है भ्रष्टाचारी है यह गलत कार्य से धन उपार्जन करता है जो यंहा तो सुखी दिखाई देता है पर वंहा नहीं होगा | जबकि ये दूसरा व्यक्ति जो है एक ईमानदार गृहस्थ है जो यंहा कष्टों से भरी जिन्दगी जीता है लेकिन फिर भी इसके लिए स्वर्ग में सुख निर्धारित है इसलिए वंहा यह सुखी होगा |

तीसरा ये व्यक्ति एक भिखारी है जो न तो यंहा सुखी है न ही वंहा सुखी होगा | और चौथा यह व्यक्ति है जो एक धनी सेठ है जो अपने कर्म के साथ साथ दान पुण्य के काम भी करता है और एक सुखी जीवन व्यतीत कर रहा है इसलिए यह वंहा भी होगा और यंहा भी इसके लिए दोनों स्थान सुरक्षित है यंहा भी और वंहा भी |