Home सामान्य ज्ञान Green corridor Hindi explanation – क्या होता है ग्रीन कोरिडोर

Green corridor Hindi explanation – क्या होता है ग्रीन कोरिडोर

SHARE

ग्रीन कोरिडोर (Green corridor) को जानिए

know Green corridor Hindi explanation – ग्रीन कोरिडोर (Green corridor) जैसी term का use medical imergency में तब किया जाता है जब किसी मरीज को तत्काल medical सहायता उपलब्ध करवानी हो या किसी सवेदनशील अंग जैसे कि – दिल या लीवर को एक से दूसरी जगह में कम समय में पहुँचाना हो | ऐसे में एक एक पल बहुत कीमती होता है क्योंकि दिल और कुछ सवेदनशील अंगो को जब एक से दूसरे शरीर में ट्रान्सफर करना होता है तो उसके लिए ‘समयसीमा’ बहुत कम होती है उस से अधिक समय लगने पर वो निष्क्रिय हो जाते है और दूसरे शरीर में काम नहीं करते | इसी तरह  अगर कोई मरीज heart attack के दौरे से जूझ रहा हो और उसे तत्काल सहायत नहीं मिले तो मृत्यु भी हो सकती है लेकिन चिकित्सा मुहेया करवाए जाने के लिए अगर अस्पताल अधिक दूरी पर पड़ता हो तो ऐसे में अधिक समय लगने पर मरीज की जान जा सकती है और वंही अगर मरीज को समय रहने हुए मेडिकल सुविधा मिल जाये तो उसे नया जीवन मिल जाता है |

ग्रीन कोरिडोर (Green corridor) की आवश्यकता – अपने newspapers में देखा होगा अकसर खबरे आती है कि किसी मेडिकल emergency में पुलिस या अस्पताल ने ग्रीन कोरिडोर बनाकर किसी मरीज की जान बचाई हो और अभी पिछले दिनों राजस्थान के बीकानेर शहर में भी ग्रीन कोरिडोर बनाकर एक दिल की मरीज महिला को PBM हॉस्पिटल से एअरपोर्ट ले जाया गया | और चेन्नई में भी एक दिल के मरीज को समय पर दिल पहुँचाने के लिए ग्रीन कोरिडोर का ही इस्तेमाल किया गया था और कुछ ही दिनों बाद चेन्नई में एक लड़के के मृत्यु के बाद लीवर दान किया गया था जिसे दूसरे अस्पताल में किसी को ट्रांसप्लांट किया जाना था और एक बार फिर से ग्रीन कोरिडोर की मदद से पुलिस और अस्पताल प्रबंधन ने केवल 11 मिनट में ये कर दिया जबकि नार्मल ट्रैफिक में भी कम से कम इसे 30 मिनट लगते और अगर ट्रैफिक जाम होता तो बात घंटो पर चली जाती है |

Green corridor Hindi explanation
Green corridor Hindi explanation

Image from – http://www.thehindu.com/

क्या होता है  ग्रीन कोरिडोर (Green corridor) –  ग्रीन कोरिडोर (Green corridor) असल में अस्पताल प्रबंधन और ट्रैफिक पुलिस तथा पुलिस के आपसी सहयोग से अस्थायी रूप से तैयार किया जाना वाला एक rout होता है जिसमे कुछ देर के लिए ट्रैफिक पुलिस के सहयोग से निर्धारित मार्ग पर कुछ देर के लिए यातायात रोक दिया जाता है या नियमित कर दिया जाता है ताकि pilot vehicle या एम्बुलेंस को एक से दूसरी जगह जाने के लिए कम से कम समय लगे | ऐसे में एम्बुलेंस का ड्राईवर अनुभवी और प्रशिक्षित होता है | और ऐसे में कम से कम समय में मरीज को चिकित्सा सेवा मुहेया करवा दी जाती है जिसकी वजह से जिन्दगी बचाना आसान होता है |

अगर आपके आस पास कभी ऐसी स्थिति में ट्रैफिक जाम हो तो जल्दबाजी दिखने की अपेक्षा आपको धीरज से काम लेना चाहिए क्योंकि ” it is a god-given opportunity for us to save a life” इसलिए हमे इस समय में सहयोग करना चाहिए और किसी की जिन्दगी के लिए प्रे करनी चाहिए |

ये ‘  Green corridor Hindi explanation ’ पोस्ट आपको कैसे लगी इस बारे में हमे अपने विचार नीचे कमेन्ट के माध्यम से अवश्य दे  । हमारी पोस्ट को ईमेल से पाने के लिए आप हमारा फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है ।  NEXT

यदि आपके पास Hindi में कोई Hindi article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया [email protected] हमे  E-mail करें पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे..