Home marriage life Hindi parenting tips बने अच्छे माता पिता

Hindi parenting tips बने अच्छे माता पिता

SHARE

Parenting tips की बात करें तो आपके लिए ये जाने लेना जरुरी है की marriage के बाद यही सबसे मुश्किल responsibility होती है जिसे सही से निभाना होता है क्योंकि हमारे kids भविष्य में कैसे होंगे और कैसे व्यवहार करेंगे यह निर्भर करता है इस बात पर कि हमारी parenting कैसी थी ऐसे में कुछ चीज़े है जो parents को ध्यान में रखनी जरुरी है और आज हम इसी बारे में कुछ बात करते है –

parenting में सबसे मुश्किल बात जो आती है वो है जब बच्चे बड़े होने लगते है तो जाहिर सी बात है किसी न किसी बात को लेकर उनमे आपस में झगड़े भी होते है और इस बात को लेके सबसे ज्यादा दुविधा होती है किसको डांटे और किसको नहीं क्योंकि ऐसे में वकालत करना आपके family के माहौल और आपकी parenting को प्रभावित कर सकता है इसलिए इस बारे में आप कुछ बातें ध्यान रखें

Parenting tips in hindi /बने अच्छे अभिभावक

बच्चो को अलग अलग दें टाइम / Give separate time to kids

असल में यह समस्या ज्यादा घरों में आती है जब बच्चे parents का साथ नहीं पाते है ऐसी families के साथ समस्या यह होती है कि पत्नी और पति  working होते है तो शुरू में तो यह थोडा गंभीर नहीं लगता है लेकिन बाद में इसके परिणाम आपको भुगतने पड़ते है kids के व्यव्हार में आप फर्क देखते है इसलिए  जरुरी है कैसे न कैसे अपने बच्चो के लिए अलग अलग time निकले और बच्चे कभी कभी parents का ध्यान आकर्षित करने के लिए भी झगड़ा करते है ऐसे में आपका सकारात्मक ध्यान अगर आप उन्हें देते है तो उतनी ही आपके बच्चो में नकारात्मकता कम होती जाती है | होमवर्क के लिए बच्चो को कैसे manage करें जानने के लिए यंहा क्लिक करें 

Hindi parenting tips
Hindi parenting tips

रेफरी नहीं बने / Don’t be a Judge

असल में कभी कभी आपको पता नहीं होता झगड़े कि वजह इतनी simple होती है कि किसी एक बच्चे के पक्ष लेना आपके लिए एक समझदारी वाला निर्णय नहीं होता क्योंकि इस से kids में द्वेष कि भावना जाग सकती है और यह बड़े होने के साथ बढ़ता जाता है इसलिए इस बारे में समझदारी बरते और सही से behave करें क्योंकि आपके बच्चे आप जिस समझदारी के साथ अब उनसे पेश आते है उसी के अनुसार खुद को विकसित करते है इसलिए बड़े होने के साथ साथ वो भी ऐसी स्थितियों से बचना सीखते है |

उन्हें सिखाएं कि भावनाओं से कैसे निपटना है / teach them how to control emotions

असल में बच्चे अगर घर में किसी तरह का बुरा बर्ताव करते है या झगड़ा करते है तो आपके पास एक मौका होता है उनमे सही आदतें विकसित करने का और आप इसका पूरा पूरा फायदा उठा सकते है और kids में चीजों और भावनाओं को कैसे handle करना है ये सिखा सकते है इसलिए कभी भी ऐसी situation आने पर खुद पर संयम रखे और भावनाओं पर काबू रखते हुए सहज भाव से kids के साथ पेश आये और आपका इस समय का बरताव आपके बच्चो के चरित्र का निर्माण करता है इसलिए इसे थोडा serious लें |

labeling नहीं करें बच्चो की / don’t give priority according to skills

अक्सर parents एक गलती करते है वो किसी बच्चे की किसी खास तरह की गतिविधि से खुश हो जाते है जैसे कि अगर किसी बच्चे के school में record अच्छा है और दुसरे का बुरा है तो आप उन्हें होशियार और काम होशियार के नाम से label लगा देते है यकीन मानिये है यह एक बच्चे में जन्हा मनोबल पुष्ट करेगा वन्ही दूसरे में थोड़ी हीन भावना भी पैदा कर देता है और साथ ही हो सकता है हीन भावना वाले बच्चे में अपने होशियार कहे जाने वाले के प्रति द्वेष हो जाये और दूसरे वाले में घमंड हो सकता है इसलिए चाहे कुछ भी ही बच्चो को बताएं कि जरुरी नहीं हर कोई हर काम में perfect हो और बच्चो की रूचि के बारे में जाने और उसके अनुसार उन्हें अपनी प्रतिभा को निखारने में मदद करें | बच्चो को कैसे अनुशासित करें जानने के लिए यंहा क्लिक करें |

तो hindi parenting tips  जो आपकी मदद करती है आपके बच्चो की बेहतर parenting में हमारी website से hindi में update पाने के लिए ईमेल subscription का लाभ ले सकते है |

Image courtesy