Home स्वास्थ्य हिस्टीरिया क्या है और इसके उपचार

हिस्टीरिया क्या है और इसके उपचार

SHARE

हिस्टीरिया रोग जो है वो अमूमन अविवाहित लड़कियों और स्त्रियों को होता है और इसके होने के पीछे कई मनोवैज्ञानिक कारण भी है | हिस्टीरिया रोग होने पर रोगी को मिर्गी के समान दौरे पढ़ते है और यह काफी तकलीफदेह भी होता है | इसलिए इसके कारण और उपचार से जुडी जानकारी हम आपसे शेयर कर रहे है चलिए इस बारे में बात करते है –

हिस्टीरिया का इलाज – खानपान से है संभव 

हिस्टीरिया होने के कारण – किसी भी वजह से मन में पैदा हुआ डर , प्रेम में असफल होना , आरामदायक जीवनशैली ,शारीरिक और मानसिक मेहनत नहीं करना ,active नहीं रहना ,यौन इच्छाएं पूर्ण नहीं होना ,अश्लील (जो कि एक लिमिट में अश्लील कुछ नहीं होता ) साहित्य पढना नाड़ियों की कमजोरी , अधिक इमोशनल होना और सही आयु में विवाह नहीं होना (जिसके कुछ सामाजिक कारण है ) और असुरक्षा की भावना हिस्टीरिया होने के मुख्य कारण है |

हिस्टीरिया के लक्षण – इस रोग में रोगी को दौरा पड़ने से पहले ही आभास हो जाता है लेकिन दौरा पड़ जाने के बाद रोगी स्त्री अपना होश खो देती है | बेहोशी का यह दौरा 24 से 48 घंटे तक रह सकता है | इस तरह के दौरे में साँस लेने में काफी दिक्कत होती है और मुठी और दांत भींच जाते है

hysteria disease in hindi - हिस्टीरिया क्या है और इसके उपचार
hysteria disease in hindi – हिस्टीरिया क्या है और इसके उपचार

हिस्टीरिया के रोगी ऐसे करें खुद का उपचार – हिस्टीरिया का इलाज और रोकथाम खान पान को संतुलित करने से भी संभव है और रोगी अपनी खानपान की आदतों में बदलाव कर इसे संयमित कर सकती है |

  • गाय का दूध ,नारियल का पानी और मठा और छाछ का उपयोग खाने के दौरान अधिक से अधिक करें |
  • दूध पीते समय उसमे जितना आपको अच्छा लगे उतनी मात्र में शहद मिलकर उसके साथ किशमिश का सेवन करें | यह काफी लाभप्रद है |
  • आंवले का मुरब्बा सुबह शाम भोजन के साथ खाना सुनिश्चित करें |
  • गेंहू की रोटी ,दलिया और मूंग मसूर की दाल को भोजन में शामिल करें |

क्या नहीं खाएं हिस्टीरिया में –

  • भारी गरिष्ठ (देर से पचने वाला ) भोजन नहीं खाएं |
  • फास्टफूड तली हुई चीज़े और मिर्च मसाले वाली चीजों के सेवन से यथासंभव बचे |
  • मास मछली और अंडे का पूर्ण रूप से त्याग कर दें |
  • चाय भी कम से कम पिए या छोड़ दें |
  • शराब गुटखा आदि का सेवन नहीं करें |
  • गुड तेल और लाल और हरी मिर्च और अचार और अन्य खट्टी चीजों से परहेज करें |

इस पोस्ट ” hysteria disease in hindi – हिस्टीरिया क्या है और इसके उपचार   ” के बारे में अपने विचार हमे कमेन्ट के माध्यम से जरूर दें और हमारी Updates पाने के लिए हमारे facebook पेज को भी like कर सकते है | image source