Home विचार प्रवाह व्यस्त दिनचर्या में ध्यान की अहमियत – Importance of meditatation in hindi

व्यस्त दिनचर्या में ध्यान की अहमियत – Importance of meditatation in hindi

SHARE

Importance of meditatation in hindi- मैं बचपन से ओशो का बड़ा फैन रहा हूँ और कभी कभी भागदौड़ भरी जिंदगी से जब उक्त जाता हूँ तो मैं अपना खाली वक़्त ओशो को पड़ते हुए बिताना पसंद करता हूँ पिछले दिनों मेने एक कहानी पढ़ी जिसके द्वारा हम ये समझ सकते है कि क्यों हमे जिंदगी में मैडिटेशन की जरुरत होती है :

एक खतरनाक तूफान में कोई नाव उलट गयी और एक व्यक्ति उस नाव में से बच गया और एक निर्जन टापू पर लहरो के संग जा गिरा  । कई दिनों सप्ताहों तक उसने इंतज़ार किया कि जिस दुनिया का वह निवासी था वंहा से कोई न कोई उसे बचाने आएगा लेकिन महीनो बीत गए कोई न आया और किसी को आते न देखकर उसने इंतज़ार करना छोड़ दिया ।

करीब पांच वर्षो के बाद कोई एक जहाज वंहा से गुजरा तो उन लोगो ने उस खोये हुए आदमी को वापिस चलने को कहा तो वो विचार में पड़ गया उन लोगो ने उस से पूछा कि क्या विचार कर रहे हो चलना है या नहीं ?? तो उसने कहा कि अगर तुम्हारे जहाज पर कुछ अख़बार हो जो तुम्हारी दुनिया की खबर लए हो तो मैं एक बार उन्हें देख लेना चाहता हूँ तो अख़बार पढ़ चुकने के बाद उस आदमी ने कहा तुम सम्भालो अपनी दुनिया को , मैं जाने से इंकार करता हूँ ।

वो लोग बहुत हैरान हुए और उनकी हैरानी भी जायज थी पर वह आदमी कहने लगा , इन पांच सालो में मेने जिस शांति को जिस मौन और जिस आनंद को अनुभव किया है वह मेने पूरे जीवन के पचास वर्षो में भी तुम्हारी दुनिया में मेने नहीं किया और सौभग्य से मेरी नाव उस दिन तूफान में पलट गयी और मैं इस द्वीप पर आ गया यदि मैं यंहा कभी न आया होता तो शायद मुझे पता भी नहीं होता मैं किसी पागलखाने में पचास वर्षो से जी रहा था ।

सच ही कहा उसने हम अपनी जिंदगी में बेवजह की परम्पराओं और जिम्मेदारियों में ही इतने खो जाते है कि हमने कभी उस शांति को अनुभव ही नहीं किया और अनुभव करना तो दूर कभी उस बारे में सोचा भी नहीं कि हमारी जिंदगी किस और है और किस लिए हम यंहा है जबकि अगर हम ये चाहे तो कर सकते है और ध्यान ही एकमात्र मार्ग है जिसके द्वारा हम खुद को जानकर एक बेहतरीन और सतुष्ट जीवन की परिभाषा को सार्थक कर सकते है ।