Home सोशल इशू marital rape मेरिटल रेप भारत में

marital rape मेरिटल रेप भारत में

SHARE

CNN की एक रिपोर्ट यह बताती है कि भारत (india) में अनजान लोगो द्वारा बलात्कार (rape) की शिकार होने वाली महिलाओं (women) की अपेक्षा उन महिलाओं (women) की तादाद 40 गुना ज्यादा है जो अपने घर में अपने पति द्वारा जोर जबरदस्ती का शिकार होती है और ऐसे में अगर कोई महिला (women) इस बात की शिकायत करती है तो इसे शायद ही इतनी गंभीरता से सुना जाता हो क्योंकि भारतीय संस्कृति में ऐसा मान लिया गया है कि दिन भर काम के बाद थके हारे पति द्वारा पत्नी को हमबिस्तर होने के लिए मजबूर करना पति का हक है जबकि वास्तविकता यह कतई नहीं है सेक्स कोई जोर जबरदस्ती और मानसिक प्रताड़ना का हिस्सा नहीं होना चाहिए इसे तो नेचुरल होना चाहिए और प्रेम पूर्ण भी जो जिसमे पति के साथ साथ पत्नी (wife) की भागीदारी भी बराबर होनी चाहिए नहीं तो इसे सम्भोग नहीं कहा गया होता | सम्भोग से अर्थ है बराबर बराबर भोग |

marital rape in hindi indian women
marital rape in hindi indian women

मेरिटल रेप (marital rape)- मेरिटल रेप (marital rape) का शाब्दिक अर्थ है उस व्यक्ति द्वारा किया गया बलात्कार (rape) जिस से महिला (women) की शादी हुई हो और यह तब और भी अधिक गंभीर हो जाता है जब इसमें घरेलू हिंसा भी शामिल हो जाये भारत (india) में चूँकि इसे अपराध (crime) के दायरे में नहीं माना जाता है जबकि मानव के अधिकारों की पैरवी करने वाले कई संगठन यदा कदा इस बारे में आवाज उठाते रहे है कि यह मानवाधिकारों का उल्लंघन है एक तरह से | सुप्रीम कोर्ट में 18 फ़रवरी 2015 को एक अर्जी को ख़ारिज करते हुए मेरिटल रेप (marital rape) को निजी बताया है और साथ ही इसके बाद सरकार ने भी संसद में इसे निजी मामला बताते हुए कह दिया कि मेरिटल रेप (marital rape) को अपराध (crime) के दायरे में रखा जाना उचित नहीं है | मेरिटल रेप (marital rape) को अपराध (crime) के दायरे में रखे जाने का विरोध करने वाले कहते है  सरकार का कहना उचित है  क्योंकि इस से परिवार को टूटने के लिए एक पुख्ता वजह खड़ी हो जाएगी | जबकि इसे अपराध (crime) के दायरे में रखने वाले कहते है कि यह मानवाधिकारों का उलंघन है | जो भी लेकिन भारत (india) में कभी किसी कानून (law) को लेकर स्पष्ट नीति नहीं रह सकती क्योंकि लोग जब तक जिम्मेदार नहीं होंगे तब तक किसी भी तरह के कानून (law) के दुरूपयोग होने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता |

marital rape in hindi indian women

मेरिटल रेप (marital rape)और मान सम्मान का तर्क –  कुछ लोग मानते है अगर मेरिटल रेप (marital rape)को लेकर कानून (law) बना भी दिया जाये तो बलात्कार (rape) के अपराध (crime) को गंभीरता की जिस श्रेणी में रखा जाता है उस पर भी इसका फर्क पड़ सकता है क्योंकि सामाजिक ताने बाने में यह माना जाता है कि बलात्कार (rape) पीडिता का बयान अगर विश्वसनीय होता है तो उस आधार पर आरोपी को सजा हो सकती है क्योंकि कोई भी महिला (women) अपने मान सम्मान को ध्यान में रखते हुए ऐसे आरोप यूँ ही नहीं लगा सकती और अब सवाल ये है कि शादीशुदा महिला (women) के लिए ये तर्क कन्हा चला जाता है वंहा भी तो यह applicable होता है और होना भी चाहिए और जैसे मैंने आपको ऊपर स्पष्ट किया चूँकि ये भी एक विवादित और बहस का विषय है कि अगर इस पर भी कानून (law) बना दिया जाये तो बहुत तरह की समस्याएं खड़ी हो जाती है जैसा दहेज़ के कानून (law) के दुरूपयोग को लेकर होती है |

कानून (law) में कमी – अगर कानूनी नजरिये दे देखने तो हमारे संविधान और ताजा सुधार के बाद अगर किसी भी शादीशुदा महिला (women) की उम्र 15 साल से अधिक है तो उसके पति द्वारा बनाया गया शारीरिक सम्बन्ध अपराध (crime) की श्रेणी में नहीं आता है और अगर उम्र की बात नहीं भी करें तो भी पत्नी (wife) की बिना मर्जी के उसके साथ बनाया गया शारीरक सम्बन्ध भारतीय कानून (law) के अनुसार वो जायज और कानून (law)न वैध होता है चाहे ऐसे में पत्नी (wife) को कितनी ही तकलीफों का सामना क्यों न करना पड़े सब कानून (law) की नजर में सही है |

इसके पीछे जो सामाजिक अवधारणा काम करती है वो है भारतीय समाज में शादी और रिश्तो को सर्वोपरी माना जाना जिसमे किसी भी पति को शादी के बाद पत्नी (wife) के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने का अधिकार मिल जाता है और ऐसे में परिवार मुख्य होता है और महिला (women) और उसके अधिकार गौण तो इसके लिए महिला (women) के पास कानून (law) के अनुसार भी कोई रास्ता नहीं रह जाता है और वो एक तरह से पारिवारिक यौन हिंसा का शिकार होती है |

सच ये है कि सामान्य बलात्कार (rape) पीड़ित की तुलना में पारिवारिक यौन हिंसा का शिकार होने वाली महिला (women) के लिए स्थिति कंही दुखद होती है क्योंकि ऐसा उसके साथ हर रात होना होता है और जिस से उबर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है उसके लिए और इसी वजह से उसके पास इसे झेलने या जिन्दगी खत्म करने के विकल्पों के बारे में सोचने से अधिक और कुछ शेष रह जाता है | यही भारत (india) है | image source

hindi में ताजा अपडेट के लिए हमारे facebook page को like करे और इस पोस्ट पर अपने विचारों को रखने के लिए आप नीचे कमेन्ट कर सकते है ।