Home pariwar Parents Hindi Tips for Child – बच्चो को किस तरह अनुशासित करें

Parents Hindi Tips for Child – बच्चो को किस तरह अनुशासित करें

SHARE

बच्चो को ऐसे सिखाएं अनुशासन (Parents Hindi Tips)

Parents Hindi Tips for discipline kids -बच्चो को किस तरह अनुशासित करें यह कोई साधारण पहलू नहीं है | शादी से पहले हमे केवल अपने बारे में सोचना होता है और हम कभी कभी खुद भी बड़े अनुशासनहीन होते है लेकिन शादी होने के बाद चाहे वो लड़का हो या लड़की सब कुछ बदल जाता है अब आपको किसी के घर की Decent बहु बनके रहना होता है वो भी इतनी सारी पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए आपको एक आदर्श role निभाना होता है | लडको के साथ भी यही होता है शादी से पहले वो चाहे जितनी बदमाशियां करले लेकिन शादी के बाद और खासतौर पर बच्चे हो जाने बाद आप माँ बाप होते है अब जो आप करते है बच्चे उसे सीखते है और आपके जैसा बनने की कोशिस करते है ये आप भी जानते है इसलिए आप किसी तरह का कोई रिस्क लेना नहीं चाहते इसलिए आप भी अपने व्यवहार के प्रति सजग रहते है ताकि आपके बच्चे से भी आप वैसा ही व्यवहार करने की उम्मीद रखें | मैंने देखा है कभी कभी बच्चो को अनुशासन सिखाने के साथ साथ किसी शरारत पर Parents उन्हें सज़ा भी दे देते है और कारण पूछे जाने पर कहते है ” ऐसा करना भी जरुरी होता है नहीं तो बच्चे बिगड़ जाते है और यह भी अनुशासन का ही एक हिस्सा है |” जबकि ऐसा नहीं है आप अगर चाहे तो आप बिना सज़ा दिए भी किसी बच्चे से जैसा व्यव्हार आप चाहते है वैसे व्यवहार करने की उम्मीद कर सकते है | आईये कुछ बातों के बारे में विस्तार से बात करते है |

ये गलती कभी नहीं करें – एक बात हमेशा ध्यान रखे कि उम्र से साथ साथ अनुभव होता है और आपके पास में वो बहुतायत में होता है लेकिन बच्चे और आप में दिन रात का फर्क होता है क्योंकि उनके पास उतनी जानकारी नहीं होती जितनी अपने अपने अनुभव से पायी है इसलिए हो सकता है उन्हें नहीं पता होता है कि किसी अलग तरह की स्थिति में किस तरह से पेश आना है ऐसे में अगर आप गुस्से में आकर उन्हें सज़ा देते है तो आप उन्हें यही सन्देश देते है कि जो कमजोर है और छोटे है उन्हें आदर कम देना चाहिए क्योंकि बच्चे बड़ी जल्दी सीखते है और अगर इस तरह की गलतफहमी को वो सीखते है तो उनके बड़े होने पर आपके लिए उनका ऐसा व्यवहार जो अपने उन्हें सिखाया है आपके लिए शर्मिंदगी की वजह बन सकता है | ऐसे में आप उसे सही और गलत के बीच का फर्क बताएं और उसे सिखाएं कि किसी खास तरह की स्थिति से कैसे निपटा जाये और अगली बार बच्चा जब ये सीख लेता है तो उसे इसके लिए कुछ प्रोत्साहन दें |

सजा सबक का हिस्सा नहीं है – “सज़ा देने से अगर कोई सुधरता तो जेल से बाहर आने के बाद तो कोई भी अपराधी कुख्यात नहीं रह जाता और वो आदर्श होता  ” इसलिए आप ये बात हमेशा ध्यान रखें कि बच्चो को सज़ा देकर आप बस केवल अपना गुस्सा उस पर उतार रहे है आप उस बात के लिए बड़े लेवल की प्रतिक्रिया कर रहे है जो आपको पसंद नहीं है | ऐसे में हो सकता है डर के मारे बच्चा आपके सामने ऐसा कुछ दोबारा नहीं करे लेकिन समय बीतने के साथ आपकी अनुपस्थिति में वो प्रयोग करने की जरूर सोचेगा और ऐसे बच्चे समय के साथ साथ माता पिता से कुछ जरुरी बाते छुपाने लगते है क्योंकि उन्हें लगता है जाहिर होने पर उन्हें घर में इसके लिए मार पड़ने वाली है इसलिए कभी कभी तो कुछ गंभीर बाते भी बच्चे अपने माता पिता से छुपाते है | इसका दुष्परिणाम सामने आने पर माता पिता पछताते है लेकिन तब कुछ बदला नहीं जा सकता है इसलिए शुरू से ही अपने बच्चो के मन से अच्छा connection बना कर रखें |

Parents Hindi Tips for Child
Parents Hindi Tips

Image Source –http://first5sonomacountyparents.org/

 

दीवार बन जाती है – अगर आप बच्चे को बात बात पर डांटते है और उसे मारते है तो ऐसे में  हम बच्चो और हमारे बीचे एक दीवार खड़ी कर लेते है “डर की दीवार ” और यह आपके बच्चे को आपसे उसके जीवन से जुडी कुछ बातें या उसके अनुभव आपसे शेयर करने से रोकती है इसलिए हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि हो सकता है आपका बच्चा कोई ऐसी गलती करे जिसके लिए आपको बहुत बुरा लगे लेकिन फिर संयम बरतते हुए उसे सही और गलत के बारे में आप खुल कर बताएं | सज़ा देने की जल्दबाजी की अपेक्षा आप उसे प्यार से चीजों के बीच में फर्क समझाएं और एक ऐसा रिश्ता कायम करें जिसमे अगर आपका बच्चा कुछ गलत भी करता है तो भी आपको बता पायें |

recommend to Read : कमर दर्द के कारण और इसके उपाय

बच्चो को सम्मान दें बड़ो की तरह – बच्चो को बहुत अधिक सिखाने की जरुरत नहीं होती है अगर आप थोडा स्मार्ट तरीके से उनके साथ पेश आते है तो क्योंकि बच्चो में उनके आस पास के माहौल से सीखने की क्षमता हम बड़ो से कंही अधिक होती है इसलिए अगर आप उनके साथ सम्मान से पेश आते है तो वो भी ये सीखते है कि छोटो के साथ भी सम्मान से पेश आना चाहिए | ऐसे में आप बिना किसी अधिक मेहनत के जिन्दगी के कई महत्वपूर्ण पाठ उन्हें सिखा सकते है |

तो ये है “Parents Hindi Tips” बच्चो के पालन पोषण से जुडी कुछ बातें और उम्मीद करता हूँ पेरेंट्स के लिए ये उपयोगी सिद्ध होंगी ऐसे में अगर आपके पास भी Hindi में कोई अच्छी जानकारी Hindi article, inspirational story  है जो आप लोगो के साथ शेयर करना चाहते है तो हमे [email protected] पर अपने नाम के साथ ईमेल करें | जानकारी पसंद आने पर हम आपके नाम के साथ इसे यंहा प्रकाशित करेंगे | हमारी पोस्ट को ईमेल से पाने के लिए आप हमारा फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है ।  NEXT