Home महिला विशेष महिलाओं के बारे में आपके मन की कुछ गलतफहमियां- Real fact about...

महिलाओं के बारे में आपके मन की कुछ गलतफहमियां- Real fact about Indian women in hindi

SHARE

Know fact about Indian women in hindi -भारतीय परिवेश में ही नहीं कई अन्य देशो में भी महिलाओं को लेकर दकियानूसी सोच देखने को मिलती है और गलतफहमियां भी और इन्हें लेकर कुछ मुहावरे और कुछ Quotes भी महान लोगो ने कहे है जो बेशक प्रचलित है लेकिन ऐसा नहीं है वो सच्चाई से भी वास्ता रखते है क्योंकि हम से कई तो केवल इसलिए उन बातों को अपनी बातचीत में शामिल करते है ताकि वाकपटुता के शहंशाह बन सके | इनमे से कुछ बातें मैं आपसे साझा करना चाहूँगा जो हम मानते है लेकिन असल में ऐसा केवल महिलाओं के साथ ही होता है जरुरी नहीं है पुरुष भी ऐसा करते है तो फिर हम हर बात के लिए महिलाओं को ही दोष क्यों दें –

इनके पेट में बात नहीं टिकती – मैंने अक्सर बुद्धिजीवी लोगो को ये कहते सुना है कि ‘महान लोग कहते है महिलाओं से कुछ गोपनीय बाते शेयर नहीं करनी चाहिए क्योंकि इनके पेट में वो टिकती नहीं या पचती नहीं है ‘ तो मैं आपको बताना चाहूँगा भारतीय परिवेश में अगर ऐसा मान भी ले तो कौनसी बड़ी बात है महिलाएं भावुक होती है और किसी बात के लिए इनको अगर कोई blame करता है तो बिना किसी सोच विचार के लिए मन का गुब्बार निकाल देना चाहती है लेकिन क्या पुरुष वाकई ऐसा नहीं करते ? क्या पुरुष के पेट में सारी बाते पचती है क्योंकि ग़लतफ़हमी पैदा होने से होने वाले लडाई झगड़ो में 50 प्रतिशत योगदान तो पुरुषों का ही होता है और college life में होने वाले लडाई झगड़ों की मूल वजह होती है ‘इधर वाले पक्ष के बारे में उधर जाकर कोई न कोई बढा चढ़ा कर बोलता है ‘ ऐसे में क्या पुरुषो को इस मामले में पूरी तरह ईमानदार कहा जा सकता है ?

इनकी तो बातें ही खत्म नहीं होती – आप जरा अपने दिल पर हाथ रख कर सोचिये क्या गॉसिप केवल महिलाओं के लिए बना विषय है ? मेरे बचपन के समय में मैंने हरियाणा के गाँव में लोगो को दोपहर के समय किसी पेड़ के नीचे बैठे हुक्के पीते पुरुषो और चाय की चुस्कियां लेते इधर उधर की बातें करते हुए देखा है इसलिए कम से कम मैं तो नहीं मानता कि केवल महिलाएं ही गॉसिप करती है जबकि मैं तो ये मानता हूँ हर किसी को बातें करने का शौक होता है और लोग खुलकर बात कर चाहते है और ऐसे में महिलाओं से बेहतर श्रोता आपको दूसरा कोई आपको नहीं मिलेगा

तैयार होने में देर लगाती है – आप कहते है कि महिलाएं तो तैयार होने में समय लेती है और ऐसे में आपको बहुत सारा इन्तजार करना पड़ता है लेकिन आप खुद सोचिये महिलाएं कितनी शिद्दत से घर की सारी जिम्मेदारियां निभाती है ऐसे में अगर वो थोडा बहुत समय लेती भी है तो इसमें गलत क्या है आप कहते है मुझे तो तैयार होने में इतना समय नहीं लगता है जितना मेरी बहन या पत्नी को लगता है तो आप ये बताएं क्या आप उनकी जगह होकर उनकी तरह जिम्मेदारियां निभा सकते है । जब आप अपने जीवासाथी चुनने के समय उनके look पहनावे को consider करते है तो उनके तैयार होने के समय में भी धर्य रखना सीख सकते है ।

real fact about women in hindi
fact about Indian women

 

गाड़ी अच्छे से नहीं चला सकती – आप देखते है कितने सारे accident होते है जिनके पीछे की वजह जानना भी आप पसंद नहीं करते या उन्हें चर्चा का विषय नहीं बनाते लेकिन अगर ऐसा होता है कि कोई महिला या कोई लड़की कितनी भी ठीक से गाड़ी चलाना जानती हो और ‘खुदा न खास्ता ‘ किसी छोटी मोटी दुर्घटना का शिकार हो जाये तो आप उसे एक बहस का विषय बना लेते है कि महिलाओं को गाड़ी ड्राइव नहीं करनी चाहिए उन्हें तो ठीक से overtake करना भी नहीं आता या ये वो ,जबकि सच्चाई ये है महिलाएं पुरुषों की तुलना में कंही अधिक संयम से गाड़ी को ड्राइव करती है और उनकी तुलना में कंही कम जल्दबाजी दिखाती है इसलिए बहुत कम होता है कि कोई महिला ‘अपनी गलती ‘ या जल्दबाजी की वजह से किसी दुर्घटना का शिकार होती है । अक्सर वो भीड़ भाड़ वाले इलाके की अपेक्षा जन्हा से ड्राइव कर गाड़ी ले जाना आसान हो वंहा से जाना पसंद करती है चाहे वो रास्ता उनके लिए कुछ लम्बा ही क्यों न हो ।

घर को समय नहीं देती – यह जुमला उन महिलाओं के लिए उपयोग में लिया जाता है जो अपने करियर में तरक्की कर लेती है आप कहते है कि ऐसा नहीं होना चाहिए । महिलाएं घर सँभालने के लिए बनी है ऐसे में जॉब के साथ साथ वो घर को अच्छे से नहीं संभल सकती है और कुछ छोटी मोटी कमियों को भी हम अगर कोई बिगड़े बच्चे का उदाहरन देते है तो कहते है माँ बाप दोनों working है इसलिए घर को समय नहीं देते लिहाजा बच्चे तो बिगड़ेंगे ही । जबकि ऐसा नहीं है अपने इस मामले में स्त्री से अधिक उदार कंही कोई नहीं देखा होगा । अगर fact ही जानना है तो एक चीज़ सोचके देखिये आप अलग अलग sectors में ऊँचे पदों पर काम कर रही महिलाओं को पढके सुनके उनके बारे में अच्छी अच्छी बातें बोलते है और महिला शशक्तिकरण से मुद्दे के लिए उन्हें उदाहरण बनाते है तो सामान्य जिन्द्दगी में किसी working women के बारे में इतने क्रूर क्यों बनते है । कोई भी महिला अगर घर की जिम्मेदारियों की बात करें तो अपने परिवार के लिए जॉब छोड़ने का फैसला ले सकती है भले ही उसे अपने काम से कितना ही लगाव क्यों न हो जैसे “सचिन तेंदुलकर” की पत्नी ने अपने पति और घर की जिम्मेदारियों के लिए अपने प्रोफेशन का त्याग कर दिया । क्या आप अपने male ego को भुलाकर ऐसा कर सकते है नहीं न ! तो इस बारे में तो बोलिए ही मत ।

वो पुरुषो पर नियंत्रण रखती है – आप कहते है महिलाएं तो पुरुषो पर काबू रखती है और तरह तरह के जुमले और joke whatsapp पर इसी बारे में शेयर किये जाते है जिसमे बेचारे पति को बड़ा ही मासूम दिखाया जाता है जबकि आप सोचिये अगर सच में ऐसा होता तो किसी महिला के साथ कभी rape या यौन शोषण जैसी घटना होती ,नहीं न ! क्या कोई महिला दहेज़ जैसी बात के लिए प्रताड़ित होती ? क्या किसी भी महिला के साथ जोर जबरदस्ती होती ? सबका जवाब आप ना में देंगे तो फिर आप कैसे कह सकते है या कहते है कि कोई भी महिला पुरुष वर्ग पर नियंत्रण रखती है ।

सच क्या है ?- असल में कोई भी महिला या लड़की (मैं बेचारी नहीं कहूँगा) ढेर सारी सामाजिक मर्यादाओं के बोझ के तले दबी हुई निरंतर परिवार की जिम्मेदारियो का निर्वहन करती है । आप अपनी माँ या शादीशुदा बहन को ही ले लीजिये उन्हें कितना वक़्त मिलता होगा मौज मस्ती या अपने मन की करने के लिए ? उसके बाद भी बची खुची जिन्दगी को लोगो और परिवार वालो की अपेक्षाओं को पूरा करने में निकाल देती है और ऊपर से आपके लिए जुमले । कितनी वैचारिक क्रूरता है हमारे मन में महिलाओं के लिए और उसके बाद हम हामी भरते है ” महिला उत्थान ” जैसे विषयों पर ,लम्बे चौड़े भाषण देते है ज्ञान बांटते है ये करना चाहिए वो करना चाहिए और उसके बाद भी किसी महिला के आचरण ,पहनावे रहन सहन जैसी बातों का हम मजाक बनाते है इसलिए मैं कहना चाहता हूँ तमाम उन लोगो से जो ये सोचते है कि please अपनी सोच बदलिए और एक आदर्श माहौल create करिए जिसमे महिलाओं के लिए भी वही सम्मान और समान स्तर हो जिसकी आप बातें करते है ।

ये ‘ Real fact about Indian women in hindi ’ पोस्ट आपको कैसे लगी इस बारे में हमे अपने विचार नीचे कमेन्ट के माध्यम से अवश्य दे  । हमारी पोस्ट को ईमेल से पाने के लिए आप हमारा फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते है ।  NEXT

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया [email protected] हमे  E-mail करें पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे..