Home hindi stories saint story hindi -पत्थर बने हीरे

saint story hindi -पत्थर बने हीरे

SHARE

यह कहानी saint story hindi जीवन की भागमभाग को दिखाती है जो दिखाती है कि जीवन की इस भागम भाग में भी अंत में वही सफल होती है तो जीवन की इस व्यस्तता में भी दूसरे लोगो के लिए अपना समय निकालता है |

एक विख्यात ऋषि गुरुकुल में बालकों को शिक्षा प्रदान किया करते थे | गुरुकुल में राजा महाराजाओं से लेकर साधारण बच्चे भी शिक्षा के लिए आया करते थे | वर्षो से शिक्षा प्राप्त कर रहे बच्चो के एक बैच की शिक्षा आज  खत्म होने वाली थी | सभी बड़े उत्साह के साथ घर लौटने की तेयारी कर रहे थे तभी ऋषि की तेज आवाज सभी लोगो के कानो में पड़ी | ऋषि कह रहे थे सभी बच्चे मैदान में इक्कठे हो जाएँ |

सभी बच्चे मैदान में इक्कता हो गये और सब के आ जाने के बाद गुरु ने उनसे कहा चूँकि आप सभी का आज अंतिम दिन है इसलिए मैं चाहता हूँ आप सभी एक दौड़ में हिस्सा लें यह एक बाधा दौड़ होगी आप सभी को कई बाधायों से होकर गुजरना होगा जन्हा कंही पर आपको पानी में से गुजरना होगा कंही पर आपको कूदना भी होगा और अंत में एक अँधेरी सुरंग में से होकर गुजरना है |

दौड़ शुरू हुई | सब लोग बड़ी तेजी से दौड़ रहे थे लेकिन जब वो उस अँधेरी सुरंग के पास पहुंचे जिसमे से उन्हें गुजरना था और उस रास्ते में जाने से पहले बहुत सारे नुकीले पत्थर पड़े हुए थे इस पर अब तक जो एक जैसा बर्ताव कर रहे थे उन सबका बर्ताव बदल गया क्योंकि पत्थर बहुत नुकीले थे और उस पर पैर रखने पर बहुत पीड़ा हो रही थी खैर सभी ने जैसे तेसे दौड़ पूरी की और आश्रम पहुंचे |

इस पर ऋषि जो इनका इंतज़ार कर रहे थे कहने लगे मैं देख रहा हूँ तुम में से कुछ लोगो ने बड़ी जल्दी दौड़ को पूरा कर लिया और कुछ लोगो को बहुत समय भी लगा ऐसा क्यों इस पर एक शिष्य ने कहा गुरूजी जब हम सुरंग में घुसने वाले थे उस रस्ते पर शुरू में बहुत सारे पत्थर भी थे तो कुछ लोग तो जैसे तेसे उनकी परवाह किये बिना निकल गये लेकिन कुछ लोग उन पत्थरों को उठाकर अपनी जेब में डालने लगे ताकि वो  पीछे आने वाले लोगो के पैरो में नहीं चुभे इसलिए किसी को अधिक समय लगा और किसी को कम |

इस पर गुरु ने कहा जिन लोगो ने पत्थर इकठा किये वो लोग आगे आयें और मुझे दिखाएँ इस पर कुछ शिष्य जिन्होंने ऐसा किया था वो लोग आगे आये तो देखते है वो पत्थर नहीं जबकि हीरे थे जो अँधेरे में उन्हें पत्थर लग रहे थे इस तरह गुरु ने कहा जो दूसरों की परवाह करते हुए जिन्दगी में आगे बढ़ता है उसे ही सफलता मिलती है जिस तरह ये हीरे उन लोगो के लिए मेरी तरफ से उपहार है जिन्होंने दौड़ में जीतने की परवाह नहीं करते हुए दूसरों के पैरों में पत्थर नहीं चुभे इस बात का ख्याल किया |

saint story hindi
saint story hindi