Home finance सिक्योर्ड लोन के बारे में जाने सब कुछ आसानी से

सिक्योर्ड लोन के बारे में जाने सब कुछ आसानी से

SHARE

Secured Loan के बारे में बात करें उस से पहले हमे ये जान लेना जरुरी है कि loan होते कितने तरह के है और इस बारे में जानने के लिए आप हमारी पिछली कुछ पोस्ट्स पढ़ सकते है जिसमे आप विस्तार से यह जान सकते है आज हम बात कर रहे है वो है सिक्योर्ड लोन जिसमे बैंक या कोई भी वितीय संस्था आपको लोन देने से पहले सिक्योरिटी के तौर पर कुछ रखती है जिसे हम Secured Loan कहते है तो चलिए इसी बारे में कुछ बातें जानते है –

Secured loan information in hindi

Secured Loan असल में इस तरह loans होते है जिसमे आपको loan देने वाली संस्था के लिए रिस्क फैक्टर कम होता है क्योंकि यह किसी तरह की प्रॉपर्टी के against में दिया जाता है या फिर अगर आप car या bike लेते है तो भी जब तक आप loan को चुकता नहीं कर देते है उसका स्वामित्व आपकी फाइनेंसियल संस्था के पास ही रहता है और जैसे ही आप loan को चुका देते है आपको नो डूएस सर्टिफिकेट मिल जाता है जिसका मतलब होता है कि आपने loan चुका दिया है और अब आपकी car या bike का स्वामित्व पूरी तरह से आपके पास और आप जब चाहें उसे बेच सकते है या जो चाहे कर सकते है और Secured Loan examples के तौर पर निम्न कुछ loans है जो आते है –secured loan information in hindi

  • Car Loan – आप जब भी किसी चार को finance करवाते है तो आपको एक नियत समय में car के लिए इनस्टॉलमेंट में पैसे देने होते है अगर आप वह नहीं चुकाते है तो आपके उस कर्ज को किसी कलेक्शन एजेंसी को बेच दिया जाता है और फिर वह कंपनी आपसे उसे वसूलती है |
  • Home loan – यह भी secured loan में आता है |
  • Car Overdraft – यह कुछ कुछ सोने को गिरवी रखने की तरह होता है जिसमे आपके car की वैल्यू की हिसाब से आपको loan मिल जाता है जिसे आप किश्तों में चुका सकते है |
  • Loan against property –  इस बारे में हम हमारी पिछली पोस्ट में बात कर चुके है जिसमे आप अपनी किसी सम्पति को गिरवी रखकर भी loan ले सकते है और यह भी सिक्योर्ड लोन की श्रेणी में आता है |
  • Secured business loan – इसमें आप अपनी किसी सम्पति को जो आपके business से जुडी है जैसे कि कोई मशीन , स्टॉक या रॉ मटेरियल आदि को गिरवी रख रखकर loan ले सकते है |

अब अगर हम बात करें कि आपको किस तरह के loan को लेना चाहिए | तो भले ही आप secured loan को प्रेफर करें या unsecured को दोनों में कुछ बातें है जो आपको ध्यान रखते हुए चुनाव करना चाहिए वो ये है –

  • Loan amount – दोनों तरह के loan की तुलना करने के लिए आप यंहा क्लिक करके unsecured loan को भी पढ़ सकते है और उसके बाद लोन की राशी के हिसाब से आप चुनाव कर सकते है |
  • Interest Rate  – interest rate की बात करें तो यह सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर है जो आपको चयन करने में मदद करता है क्योंकि interest rate जितना कम होगा उतना ही आपको मूल राशी से अधिक जो पैसे भरने होंगे उसका अंतर कम से कम होगा और यह देखा गया है कि प्रॉपर्टी के अगेंस्ट अगर आप loan लेते है तो उसकी interest rate जो होती है वो अपेक्षाकृत कम होती है |
  • Loan use – यह बात जानना भी जरुरी है कि जब आप किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थान से जब लोन केते है तो जैसे अगर आप business loan लेते है तो आप उस लोन को किसी एक विशेष काम के लिए जो आपने loan लेते समय अपने एप्लीकेशन में भरा है उसी के लिए इस्तेमाल कर सकते है लेकिन वन्ही प्रॉपर्टी के against में लिया गया loan आप अपने किसी भी व्यक्तिगत काम के लिए खर्च कर सकते है |
  • Tenor time – यह वह समय होता है जिसके भीतर आपको लिए गये राशी को चुकाना होता है और यह अलग अलग लोन के प्रकार पर निर्भर करता है जिसे आप ध्यान में रख सकते है यह चुनने के लिए जब आप कोई लोन लेने का सोच रहें हो |

तो ये है  Secured loan information in hindi और इस बारे में अधिक जानकरी के लिए आप हमे ईमेल कर सकते है और हमे regular hindi updates पाने के लिए आप फेसबुक पर हमे follow कर सकते है या नीचे दिए गये लाल रंग के घंटे के निशान पर भी क्लिक कर सकते है |

Image Source – demo pic