Home General Knowledge लाला लाजपत राय की क्यों हुई मौत जानिए ?

लाला लाजपत राय की क्यों हुई मौत जानिए ?

SHARE

Simon Commission के बारे में आपने history की किताबों में जरुर पढ़ा होगा और यह भी कि इसकी वजह से हमारे देश के एक महान व्यक्तित्व जो आजादी की लड़ाई में शामिल था कि लाठीचार्ज की वजह से जान चली गयी थी | हालाँकि उसका बदला भगत सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर ले लिया था लेकिन जो हुआ उस नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकती थी तो चलिए जानते है कि क्या था ये Simon Commission आज की हमारी इस पोस्ट में –

Simon Commission in hindi

Simon Commission एक ब्रिटिश सांसदो का समूह था जिसमे कुल सात सांसद शामिल थे और इसका मकसद था उस समय के ब्रिटिश अधीन भारत में संविधान में कुछ संसोधन करने के लिए सुझाव देना | इसका गठन 1927 में किया गया | यह ठीक उसी तरह की एक समिति थी जैसे आज के भारत में किसी भी विवाद वाले समस्या की लिए गठित की जाती है जो सुधार और सुझावों के लिए किसी विषय विशेष का गठन करके जो किये जा सकने वाले परिवर्तनों के लिए सुझाव देती है | Simon Commission का यह नाम भी उसी तरह “ जोन साइमन “ जो सात सदस्यों के समूह वाली इस समिति के अध्यक्ष था के नाम पर रखा गया |Simon Commission in hindi protest

इस कमीशन के विरोध में पूरा भारत एकजुट हो गया था और उस समय हुए विरोध में बहुत से लोगो को अपनी जान गवांनी पड़ी और इसमें लाला लाजपत राय भी थे जिनकी छाती पर लाठियों के प्रहार के कारण उनकी मौत हो गयी थी जिसका बाद में भगत सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर बदला ले लिया | पंडित जवाहर लाल नेहरु और गोविन्द वल्लभ पन्त दोनों घायल हो गये | यह 30 oct 1928 का दिन था | जब लाला लाजपत राय गंभीर रूप से घायल हो गये थे और उन्हें चोटिल करने वाला एक अंग्रेज अफसर था स्कॉट | हालाँकि स्कॉट किसी तरह बच गया था क्योंकि भगत सिंह ने अपने साथियों के साथ उसे मारने की योजना बनायी थी तो स्कॉट की जगह सांडर्स मारा गया | भगत सिंह को फांसी होने का भी एक यह कारण था क्योंकि संसद में बम फेंकने के लिए तो उन्हें आजीवन कारावास हुआ था लेकिन अंग्रेज अधिकारी यह साबित करने में कामयाब रखे कि सांडर्स की हत्या भी भगत सिंह ने की थी |  3 फ़रवरी को Simon Commission भारत आया और पूरे देश में इसके खिलाफ प्रदर्शन हुए थे |

तो ये है  Simon Commission in hindi और हमसे hindi update पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर फॉलो कर सकते है या हमसे ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है |

Image Source – Demo