Home Short Stories रोटी में मुहर – Stamp in roti in hindi

रोटी में मुहर – Stamp in roti in hindi

SHARE

roti in hindi – एक बार एक देश में अकाल पड़ा | लोग भूखों मरने लगे तो उस राज्य के एक धनी पुरुष ने जो कि बहुत ही दयावान था उसने सभी बच्चो के लिए एक एक रोटी देने की घोषणा कर दी | दूसरे दिन सवेरे बगीचे में सब बच्चे इकठे हुए तो सब लोग रोटी के लिए झगड़ा करने लगे क्योंकि रोटी छोटी बड़ी थी तो सब बच्चे एक दुसरे को धक्का देकर बड़ी रोटी पाने का प्रयास कर रहे थे | केवल एक छोटी सी लड़की एक और चुपचाप खड़ी थी उसे सबसे अंत में रोटी मिली जब केवल एक छोटी रोटी बची | उसने उसे बड़ी ख़ुशी से लिया और घर चली गयी |

दुसरे दिन भी यही हुआ जब रोटियां बांटी गयी तो आज भी उस लड़की को सबसे छोटी रोटी मिली और उसने इसे भी ख़ुशी से लिया और घर चली गयी जबकि जैसे ही घर जाकर उसने रोटी को तोडा उसमे से से सोने की मुहर निकली  | उस लड़की की माता ने कहा ” मुहर उस धनी को वापिस दे आओ क्योंकि ये हमारी नहीं है |” लड़की भागी भागी उस धनी के घर गयी तो धनी ने उस से कहा तुम क्यों आई हो तो लड़की ने कहा कि मेरी रोटी में ये मुहर निकली है शायद आटे में गिर गयी होगी सो वापिस देने आई हूँ | आप अपनी मुहर ले लें |

धनी बहुत प्रसन्न हुआ क्योंकि उसे कोई बेटी नहीं थी इसलिए उसने उस लड़की को अपनी धर्मपुत्री बना लिया और उसकी माता को भी अपने यंहा कर्मचारी रख लिया | बड़ी होने पर वही लड़की उस धनी की उतराधिकारिणी बनी