Home Short Stories जैसा व्यवहार तुम चाहते हो वैसा ही करो – what you give...

जैसा व्यवहार तुम चाहते हो वैसा ही करो – what you give to other will come to you in hindi

SHARE

come to you in hindi – पुराने समय की बात है | मगध राज्य के एक व्यापारी को व्यापार में बहुत लाभ हुआ | इसके बाद तो उसका व्यवहार ही बदल गया जो लोग उसके नीचे काम करते थे सब से वह अहंकार पूर्वक बात करने लगा | व्यापारी का अहंकार इतना प्रबल था कि उसे देखकर उसके परिजन भी अहंकार के वशीभूत हो गये | जब सभी का अहंकार आपस में टकराने लगे तो घर में कलह का माहौल बन गया और आप जानते है घर में कलह का माहौल होने पर नकारात्मक वातावरण हो जाता है इसी वजह से उनकी जिन्दगी नरक जेसी हो गयी | दुखी होकर वह व्यापारी भगवान बुद्ध के पास गया और उनसे बोला कि भगवान् मुझे इस नरक से मुक्ति दिलाईये | मैं भी भिक्षु बनना चाहता हूँ |

इस पर भगवन बुद्ध गंभीर स्वर में बोले अभी तुम्हारे भिक्षु बनने का समय नहीं आया है | भिक्षु को पलायनवादी नहीं होना चाहिए और उसके स्वाभाव में स्थिरता होनी चाहिए | जैसा व्यवहार तुम दूसरों से चाहते हो वैसा ही व्यवहार तुम करो तुम्हे इस से लाभ होगा | उस व्यापारी ने बुद्ध की बात मानी और उस पर अमल किया थोड़े दिनों के बाद घर का माहौल स्वत: ही बदल गया |