Home legal knowledge महिलाओं को जानने चाहिए अपने ये अधिकार

महिलाओं को जानने चाहिए अपने ये अधिकार

SHARE

Women rights की अगर हम बात करें तो हम से बहुत से ऐसे लोग है जो इस बारे में नहीं जानते है और इसी वजह से उन्हें कभी कभी पुलिस के शोषण का शिकार होना पड़ता है जबकि हमारे संविधान में एक महिला को बहुत से अधिकार दिए गये है जिनकी अगर समाज में जानकारी हो और जाग्रति हो तो उन्हें इस्तेमाल करते हुए आप एक बेहतर जागरूक नागरिक हो सकते है तो चलिए जानते है कौनसे वो rights है जो india में किसी भी महिला को संविधान प्रदत है आज के हमारे इस लेख में –

women rights in india in hindi

Women rights के बारे में बहुत से ऐसे अधिकार दिए गये है जो महिलाओं के मान सम्मान की सुरक्षा को सुनिश्चित करते है इन बारे में हम थोड़ी थोड़ी basic details जानते है –

मुफ्त कानूनी सहायता –  बलात्कार से पीड़ित महिला के लिए अगर अपने केस लड़ने के लिए वकील कर पाना आर्थिक तौर पर सक्षम नहीं होती है तो उसे अधिकार है कि वह अपने लिए निशुल्क वकील प्राप्त कर सकती है और इसके लिए लीगल सर्विसेज अथॉरिटी एक्ट 1987 मे women rights के तहत प्रावधान है |women rights india hindi

बयान देने सम्बन्धी कानून –  कोई भी ऐसी महिला जो भारतीय नागरिक है उसे बयान देने के लिए पुलिस स्टेशन नहीं बुलाया जा सकता है | पुलिस अगर घर पर जाकर भी बयान लेती है तो भी वह women rights के तौर पर कानूनी तौर पर वैध है और अगर महिला चाहे तो बयान देने के लिए महिला पुलिस अधिकारी की भी मांग रख सकती है |

गिरफ्तारी सम्बन्धी – किसी भी महिला को सूर्यास्त के बाद और सूरज उगने के पहले गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है और किसी खास परिस्थिति में जैसे कि अगर उसने कोई संगीन अपराध किया हो तो मजीस्ट्रेट से विशेष अनुमति के बाद ऐसा किया जा सकता है |

सम्पति से जुड़ा अधिकार – हिंदू उतराधिकार कानून संसोधन 2005 में मुताबिक  पिता की सम्पति में बेटी का भी उतना ही समान हक़ है जितना कि बेटों का है ऐसे में अगर किसी महिला के भाई अपनी बहन को सम्पति में से हक देने का विरोध करते है या नहीं देते है तो वह इसके लिए दावा कर सकती है | women rights के तौर पर यह कानून सही मायने में महिला को बराबरी का दर्जा देता है कानूनी तौर पर भी |

मातृत्व अवकाश – कोई भी ऐसी कम्पनी जिसमे 10 या उस से अधिक कर्मचारी है वंहा महिला कर्मचारी को अपने प्रथम दो बच्चो के लिए 26 हफ्ते का मातृत्व अवकाश दिया जाना अनिवार्य है |

तनख्वाह से जुड़ा अधिकार – अगर कोई महिला किसी भी कम्पनी में कार्यरत है तो उसे उस पद के अनुसार पुरुष के बराबर सेलरी पाने का अधिकार है और यह प्रावधान इक्वल रिम्युन एक्ट 1976 के तहत सभी कम्पनीज पर लागू होता है | women rights के तहत अगर कोई कम्पनी किसी तरीके से भेदभाव करती है तो महिला बराबरी की मांग कर सकती है

ईमेल से प्राथमिकी से जुड़ा अधिकार – अगर कोई महिला अपने आप ऐसी परिस्थिति में पाती है कि पुलिस स्टेशन नहीं जा सकती है तो वह अपनी शिकायत को ईमेल के माध्यम से या पत्र के माध्यम से भी भेज सकती है और यह कानूनी तौर पर मान्य है |

तो ये है कुछ women rights in india in hindi इसके अलावा और भी बहुत से कानून है जो किसी महिला की सुरक्षा और उसके अधिकारों की रक्षा करते है हमसे और अधिक update पाने के लिए आप हमे फेसबुक पर फॉलो कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है |

Image Source – demo